×

Farrukhabad News: फर्रुखाबाद में फिर लगे 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर, पलायन को मजबूर हुए ग्रामीण

यूपी के फर्रुखाबाद में 'मकान बिकाऊ है' का जिन्न फिर जिन्दा हो गया है। इस बार यादवों पर गुंडई का आरोप लगा है। पुलिस पर भी आरोप हैं कि पुलिस उनका सहयोग कर रही है। पुलिस की मिलीभगत के चलते लगातार उत्पीड़ित हो रहे ग्रामीण पलायन करने को मजबूर हैं।

Dilip Katiyar
Report Dilip KatiyarPublished By Ashiki
Updated on: 6 Sep 2021 5:50 PM GMT
Farrukhabad News
X

पलायन को मजबूर हुए ग्रामीण  

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Farrukhabad News: यूपी के फर्रुखाबाद में 'मकान बिकाऊ है' का जिन्न फिर जिन्दा हो गया है। इस बार यादवों पर गुंडई का आरोप लगा है। पुलिस पर भी आरोप हैं कि पुलिस उनका सहयोग कर रही है। पुलिस की मिलीभगत के चलते लगातार उत्पीड़ित हो रहे ग्रामीण पलायन करने को मजबूर हैं। पीड़ितों ने अपने घर के बाहर दीवार पर पोस्टर लगाएं है कि कई दशकों वाले आम रास्ते पर जबरन दीवार खड़ी कर दी है जिससे परेशान गांव वालों ने मकान बिकाऊ है कि पोस्टर लगा दिए हैं।

गांव वालों ने अनेकों स्थानों पर लगाए गए पोस्टरों पर लिखा है कि यादवों की गुंडई है। इससे पहले कुछ दिन पूर्व जहानगंज थाना क्षेत्र के गांव पतोंजा, कंपिल थाना क्षेत्र के गांव बिल्हा और गांव नवाबगंज थाना क्षेत्र के गांव भगोरा में मकान बिकाऊ के पोस्टर लगा दिए थे। वहीं जिले में चौथी बार मकान बिकाऊ के पोस्टर का मामला सामने आया है।


जिले में किसी भी समस्या के लिए मकान बिकाऊ है कि पोस्टर लगाने का फैशन शुरू हो गया है। पीड़ित लोगों को जब न्याय नहीं मिलता है तो वह सभी प्रकार के कार्य करने का प्रयास करते हैं। थाना नवाबगंज के ग्राम श हपुरा मौजा बसेली में दबंगों द्वारा रास्ता बंद करने का के बाद मकान बिकाऊ का पोस्टर ग्रामीणों ने अपने घरों के बाहर लगा दिए हैं। गांव में करीब 100 घर ऐसे हैं जिन्होंने घर के बाहर मकान बिकाऊ के पोस्टर लगा दिए हैं।


गांव के रामकिशन बाथम ने बताया कि गांव के ही रामशरन व रामवीर यादव गांव से करीब 30 मीटर दूर आम रास्ते पर बीते एक सप्ताह से करीब 30 मीटर लंबी दीवार बना रहे हैं। उनके इस गुंडई के कार्य में पड़ोसी गांव कलौली के प्रधान छोटे लाल यादव व दर्जनों यादव मदद कर रहे हैं। आज तक करीब 6 फुट उंची दीवार उठा दी गई है।

रामकिशन ने बताया कि गांव के लोग जन्म से इसी रास्ते से आते जाते हैं। गांव आने जाने का कोई दूसरा रास्ता भी नहीं है। रास्ता बंद हो जाने के कारण गांव के करीब 100 परिवारों का मार्ग अवरुद्ध हो गया है। हम लोगों ने मुख्यमंत्री डीएम व थाने में भी शिकायत की है। बीते दिनों लेखपाल प्रमोद अवस्थी ने पैमाइश करके रास्ता देने का वायदा किया था लेखपाल ने कहा था कि दोनों खेत मालिकों से 3- 3 हाथ जमीन लेकर निकलने का रास्ता बनाया जाएगा।


रामकिशन ने बताया कि आज शाम दरोगा सोमवीर ने जांच पड़ताल के दौरान निर्माण कार्य को रुकवा दिया। लेकिन पुलिस के जाते ही दबंग यादव ने निर्माण कार्य शुरू कर दिया है। अब रास्ता बंद हो जाने के बाद निर्माण कार्य बंद कराने से भी कोई फायदा नहीं है यह काम पुलिस को पहले ही करना था। बताया गया है कि चकबंदी के दौरान गांव के लिए चकरोड नहीं बनाया गया था यादव लोग अपने खेत के किनारे दीवार उठाकर कोई गलत काम भी नहीं कर रहे हैं।

Ashiki

Ashiki

Next Story