×

Fatehpur News: सिग्नल टॉर्च चालू कर चैन की नींद सो रहा था रेलवेकर्मी, राम भरोसे पटरी पर दौड़ती रहीं ट्रेनें

फतेहपुर रेलवे क्रॉसिंग पर काफी देर से फंसे लोगों ने जाकर देखा तो गेटमैन सिग्नल टॉर्च चालू कर आराम से सो रहा था।

Ramchandra Saini

Ramchandra SainiReport Ramchandra SainiAshikiPublished By Ashiki

Published on 23 July 2021 12:54 PM GMT

Fatehpur News: सिग्नल टॉर्च चालू कर चैन की नींद सो रहा था रेलवेकर्मी, राम भरोसे पटरी पर दौड़ती रहीं ट्रेनें
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

फतेहपुर: यूपी के फतेहपुर जिले में रेलवे गेटमैन की बड़ी लापरवाही सामने आयी है, जिसकी वजह से हजारों जान भी जा सकती थी। रेलवे गेट ना खुलने से फंसे कार सवार लोगों ने अगर सो रहे गेट मैन को ना उठाया होता तो बड़ा हादसा हो सकता था।

दरअसल, मुख्यालय से 8 किलोमीटर की दूरी पर रमवा असोथर मार्ग पर बने रेलवे गेट घंटो ना खुलने से फंसे कार सवार लोगों ने जाकर देखा तो केबिन में कोई नहीं था और सिंग्नल टार्च चालू था। इसके बाद कार सवार लोगों ने गेटमैन को आवाज दी जो की कमरे में आराम की नींद ले रहा था। काफी देर बाद कमरे से निकल कर बाहर आया। क्रॉसिंग पर फंसे लोगों इसका वीडियो भी बना लिया जो कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

वीडियो वायरल होने के बाद जब इस मामले में रेलवे के अधिकारी एसएसइ अनूप सिंह से बात की गई तो उन्होंने पहले कोई भी जानकारी ना होने की बात कही, लेकिन जब वीडियो देखा तो उनके भी होश उड़ गए और कहा कि रमवा का 47 नंबर गेट जिस पर रात में 10 बजे के बाद गेटमैन आर के शर्मा की ड्यूटी लगी थी और जिस तरह से रेलवे प्रशासन को धोखा देते हुए सिंग्नल टार्च जलकर सो गया इस घोर लापरवाही पर इनको निलंबित करने के साथ गेटमैन की ड्यूटी नहीं दी जायेगी।


उन्होंने कहा कि 8 घंटे की ड्यूटी इसी लिए लगाई जाती है कि कर्मचारियों पर ज्यादा बोझ ना हो। ट्रेन के निकलते समय गेटमैन द्वारा टार्च जलकर चालक व गार्ड को सिंग्नल दिया जाता है, लेकिन जिस तरह टार्च चालू कर कर्मचारी घंटों सो रहा था इस कड़ी कार्यवाही होगी।

स्टेशन मास्टर रेलवे फतेहपुर आर के सिंह ने बताया कि फतेहपुर जिले से रात में 50 ट्रेनों का आना जाना होता और सभी लंबी दूरी की ट्रेनें हैं और सभी विशेष ट्रैन होती हैं। इस तरह की लापरवाही से कोई भी हादसा हो सकता था। रात में प्रयागराज दिल्ली, हाबड़ा दिल्ली, मथुरा एक्सप्रेस जो रात में आती जाती है जो उत्तराखंड के हरिद्वार तक और एक हिस्सा मथुरा तक इसके अलावा हाबड़ा दिल्ली राजधनी ट्रेनें शामिल है।

Ashiki

Ashiki

Next Story