×

Vidya Bharati Webinar: प्रोफेसर मणीन्द्र अग्रवाल ने बताया कोरोना वायरस का कब होगा अंत, बच्चों के लिए होगा ये असर

Kanpur News : डॉ. अग्रवाल ने बताया कि धीरे धीरे यह वायरस भी आम फ्लू की तरह हो जाएगा और भविष्य में एक आम संक्रामक बीमारी बनकर रह जायेगी।

Network
Published on 18 Jan 2022 7:47 AM GMT
Kanpur news in hindi
X

Kanpur News : वेबिनार कार्यक्रम का आयोजन (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Kanpur IIT : विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान अवध प्रांत के तत्वाधान में आयोजित मासिक वेबिनार एवं जागरूकता कार्यक्रम की श्रंखला में कानपुर आईआईटी के पद्मश्री प्रोफेसर डॉ मणीन्द्र अग्रवाल जी मुख्य वक़्ता के रूप में आमंत्रित थे। वेबिनार कार्यक्रम का केंद्रीय विषय will Covid 19 Pandemic End in 2022 or its Endless threat ... A Quest for survival था।

कार्यक्रम का प्रारंभ विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान पूर्वी क्षेत्र के क्षेत्र-संयोजक जय शंकर पांडे विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान (Bharti Institute of Higher Education) के पवित्र उद्देश्य एवं विचारों से सभी को अवगत कराते हुए किया। इसके पश्चात विद्या भारती अवध प्रान्त के संयोजक डॉक्टर रजनी रंजन सिंह ने प्रो. अग्रवाल के व्यक्तित्व एवं उनके महान उपलब्धियों पर संक्षिप्त प्रकाश डाला तथा कार्यक्रम की औपचारिक शुरुआत की।

प्रो. डॉ मणीन्द्र अग्रवाल ने अपने 'सूत्रा' मॉडल के माध्यम से विभिन्न प्रान्तों में वायरस के प्रसार और उनके चरम बिंदु को मॉडल एवं गणितीय विधि द्वारा समझाया। और बताया कि इस तीसरी लहर का अंत फरवरी के अंत में हो जाएगा , चूँकि यह डेल्टा वैरिएंट की अपेक्षा कम घातक है इसलिए आमजनमानस में धारणा बन चुकी है कि तीसरी लहर में घर मे ही रहकर ठीक हुआ जा सकता है । अतः वास्तविक संख्या सरकारी आंकड़ों से कही अधिक है ।

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि धीरे धीरे यह वायरस भी आम फ्लू की तरह हो जाएगा और भविष्य में एक आम संक्रामक बीमारी बनकर रह जायेगी । और इसके साथ ही सभी लोगों में इस वायरस के प्रति व्यापक इम्युनिटी भी विकसित हो जाएगी। प्रो. डॉ.अग्रवाल ने विभिन्न प्रतिभागियों द्धारा पूछे जा रहे प्रश्नों का जवाब दिया , एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि यह वायरस बच्चों पर कम घातक है, लेकिन विद्यार्थियों के विद्यालयों को बंद रखने की विशेष आवश्यकता नही थी। एक अन्य प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि भविष्य में यह संभावना बनी रहेगी कि मानवजनित संचारी विषाणु रोगों का प्रसार होता रहेगा ।

प्रो अग्रवाल ने यह भी स्पष्ट किया कि सरकार के पास वायरस पर अध्ययन करने के लिए पर्याप्त लैब व संसाधन के संग वैज्ञानिक उपलब्ध हैं। डॉ. अग्रवाल से डॉ. अनिल मिश्रा, डॉ जयशंकर प्रसाद पांडेय, डॉ रजनी रंजन सिंह, डॉ जितेंद्र पाल इत्यादि विद्वानों ने प्रश्न पूछे । कार्यक्रम का सीधा प्रसारण फेसबुक के माध्यम से किया गया । कार्यक्रम का कुशल संचालन सह-संयोजक डॉ मञ्जुल त्रिवेदी ने तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ. सुनीता कुमार ने किया । कार्यक्रम में एक सैकड़ा से अधिक विद्वानों , छात्रों आदि उत्साहपूर्वक प्रतिभाग किया ।

Taza khabar aaj ki uttar pradesh 2022, ताजा खबर आज की उत्तर प्रदेश

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story