×

Mainpuri News: मैनपुरी में कुम्हारों का गजब का कारनामा, कबाड़ से बना डाली मिट्टी के बर्तन बनाने वाली मशीन

Mainpuri News: मैनपुरी में युवा कुम्हारों ने कबाड़ से मिट्टी के बर्तन बनाने वाली मशीन बनाई है

Praveen Pandey

Praveen PandeyReport Praveen PandeyAshikiPublished By Ashiki

Published on 21 Jun 2021 2:23 PM GMT

Mainpuri News: मैनपुरी में कुम्हारों का गजब का कारनामा, कबाड़ से बना डाली मिट्टी के बर्तन बनाने वाली मशीन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मैनपुरी: मैनपुरी में कुम्हारों ने मिट्टी के बर्तन बनाने का अनोखा यंत्र तैयार किया है, जो इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है। आज हम मिट्टी के बर्तनों को छोड़ कर प्लास्टिक और थर्माकोल के बर्तनों के उपयोग कर पर्यावरण को दूषित करने के साथ साथ गंभीर बीमारियों को दावत दे रहे हैं। जो कि हमारे और पर्यावरण दोनों के लिए घातक है।

जनपद के कुछ युवा कुम्हारों ने आगरा खुर्जा मैनपुरी व कबाड़ आदि से सामान लाकर ये यंत्र तैयार किया है, इससे मिट्टी के बर्तन बनाने में काफी जल्दी होती है। कुम्हारों का कहना है कि इसमें लाभ कम है, लेकिन वह इस काम को पर्यावरण ठीक रखने के साथ साथ अपनी और अपने सहयोगियों की जीविका के लिए कर रहे हैं। प्लास्टिक के बर्तनों से पर्यावरण दूषित होता है बीमारियां फैलती हैं। जबकि मिट्टी के बर्तन ईको फ्रेंडली है।


मैनपुरी शहर से सटे नगला पजाबा के रहने बाले पवन प्रजापति ने जुगाड़ से ये यंत्र तैयार किया है, इस यंत्र से बेहद जल्दी तरह तरह के मिट्टी के बर्तन तैयार हो जाते हैं, बिजली की छोटी सी मोटर से कई मशीने चलती हैं। पवन प्रजापति ने आगरा, खुर्जा, मैनपुरी से कबाड़ आदि से सामान लाकर ये यंत्र तैयार किया साथ ही सारा सिस्टम डेवलप किया।


उनका कहना है कि यह काम उन्होंने यह सोचकर शुरू किया कि इससे पर्यावरण ठीक रहेगा, दूषित नहीं होगा, उन्हें लाभ भी मिलेगा। शादी विवाह व अन्य कार्यक्रमों में प्लास्टिक के बर्तन उपयोग हो रहे हैं, जिससे प्रदूषण फैलता है। साथ ही बीमारियां फैलती हैं।


हालांकि उन्हें मेहनत के मुताबिक इस काम में लाभ नहीं मिल पा रहा है। उनका कहना है कि अगर सरकार से मदद मिले तो इस कार्य को वह काफी आगे ले जा सकते हैं। खुद को भी अच्छा लाभ होगा और लोगों को रोजगार भी दे सकते हैं, पर्यावरण भी दूषित नहीं होगा। साथ ही लोगों में प्लास्टिक से फैल रही गंभीर बीमारियों से भी निजात मिलेगी।

Ashiki

Ashiki

Next Story