Top

प्रधान प्रत्याशी को मिली चुनाव में जीत, लेकिन हार गईं जिंदगी की जंग

ऐसा जिले के इतिहास में पहली बार हुआ जब मतदान होने और मतगणना से पहले प्रधान प्रत्याशी की मौत हो गई।

Praveen Pandey

Praveen PandeyReporter Praveen PandeySumanPublished By Suman

Published on 3 May 2021 1:50 AM GMT

मतगणना से पहले प्रधान प्रत्याशी की मौत
X

 सांकेतिक तस्वीर (साभार-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मैनपुरी: चुनाव (Election)की जंग जीतने से पहले ही प्रधान पद की महिला प्रत्याशी जिन्दगी की जंग हार गई। कुरावली ब्लॉक की ग्राम पंचायत नगला ऊसर में मतदान के बाद बीमार हुई महिला प्रत्याशी (Female Candidate) की ऑक्सीजन लेवल (Oxygen Level )कम होने से मृत्यु हो गई थी।

ऐसा जिले के इतिहास में पहली बार हुआ जब मतदान होने और मतगणना से पहले प्रधान प्रत्याशी की मौत हो गई। प्रत्याशी पहले जिन्दगी की जंग हार गईं। मतगणना होने पर प्रत्याशी को जीत हासिल हुई। ग्राम पंचायत में जहां मातम का माहौल था वहां पर खुशी की कुछ किरण दिखाई दी है।

गौरतलब है कि क्षेत्र की ग्राम पंचायत नगला ऊसर से प्रधान पद के प्रत्याशी के रुप में पिंकी देवी पत्नी सुभाष चन्द्र चुनाव मैदान में थी। जो 19 अप्रैल को मतदान के दिन से रात्रि को बीमार हो गई। जिन्हे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। परिजनों ने आगरा में भर्ती कराया। जहां से फिर फिरोजावाद एक प्राईवेट हॉस्पीटल में उपचार चला था। उसके बाद आराम न मिलने पर दोवारा फिर आगरा में एक प्राईवेट हॉस्पीटल में भर्ती कराया था। जहां पर ऑक्सीजन लेवल कम होने की बजह से प्रत्याशी की मृत्यु हो गई थी।

प्रधानी चुनाव में मिल गई जीत

महिला प्रत्याशी पिंकी देवी जहां चुनाव की जंग जीत गईं है। लेकिन उससे पहले ही वह जिन्दगी की जंग हार गईं थी। जिसके बाद से ग्राम पंचायत में मातम का माहौल था। मतगणना हुई तो दिवंगत प्रत्याशी ने अपने प्रतिद्धदी चन्द्रावती को 115 मतो से पराजित कर दिया। पिंकी को कुल 388 मत प्राप्त हुए।

सांकेतिक तस्वीर(साभार-सोशल मीडिया)

मुरझाए हुए चेहरों पर आई कुछ खुशी

प्रत्याशी पिंकी देवी की मृत्यु के बाद जहां गांव में मातम का महौल व्याप्त हो गया है। चारों तरफ से केवल एक ही आवाज आती थी। कि हमने अपना एक होनहार जन प्रतिनिधि खो दिया है। हलांकि चुनाव में जीत नही मिली थी। लेकिन ग्राम पंचायत के मतदाता पहले ही उनकी जीत तय कर चुके थे। चुनाव में जीत मिलने के बाद मुरझाए हुए चेहरों पर खुशी की एक हल्की सी किरण दिखाई दी है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Suman

Suman

Next Story