Top

SO समेत 7 पुलिसवाले सस्पेंड, पीड़ितों को झूठे केस में भेजा था जेल

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 25 Jun 2016 4:34 AM GMT

SO समेत 7 पुलिसवाले सस्पेंड, पीड़ितों को झूठे केस में भेजा था जेल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : राजधानी केे पारा थाने की पुलिस ने हाईस्कूल की छात्रा से छेड़छाड़ के आरोपियों को बचाने के लिए कानून की धज्जियां उड़ा दी। पुलिस ने विक्टिम समेत उसके घर के 6 लोगों को लूट के भर्जी मामले में फंसाकर जेल भेज दिया। विक्टिम ने जब डीजीपी से न्याय की गुहार लगाई तो पुलिस का घिनौना चेहरा सामने आया। सत्ता के करीबी पारा थाने के एसओ अशोक यादव व 6 अन्य पुलिसकर्मियों को एसएसपी मंजिल सैनी ने शुक्रवार को सस्पेंड कर दिया।

डीजीपी मुख्यालय की जांच में अशोक यादव के अलावा SSI राम स्वारथ यादव, SI बलजीत यादव, SI शिव शंकर सिंह, SI नारायण कुशवाहा, कॉन्स्टेबल योगेंद्र सिंह यादव और आलमबाग कोतवाली की महिला कॉन्स्टेबल छोटी बिट्टी दोषी पाए गए हैं।

-23 मार्च को होली के दिन सपा पश्चिमी विधान सभा क्षेत्र के सचिव शिवकुमार और उन्नाव में सपा छात्र सभा के जिला सचिव पारा निवासी दीपक कुमार ने हाईस्कूल की छात्रा से अभद्रता की। -वहां मौजूद रिश्तेदारों आशीष सिंह और दीपू ने विरोध किया तो शिव व दीपक ने दोनों को पीटा और उनकी इनोवा तोड़ दी।

-महिला के सूचना देने पर आई पुलिस भी महिला, उसकी दो बेटियों, आशीष, दीपू और इनोवा की मालकिन को थाने ले गई।

-एसओ अशोक यादव ने शिवकुमार की तहरीर पर महिला व उसकी दो बेटियों को लूट के फर्जी केस में जेल भेज दिया।

-एक अप्रैल को ही मामले में चार्जशीट भी लगा दी गई।

-जेल से छूटने के बाद पीड़ित महिला ने डीजीपी को प्रार्थना पत्र देकर जांच की मांग की।

-डीजीपी के आदेश के बाद मामले का खुलासा हुआ।

एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि

डीजीपी मुख्यालय की रिपोर्ट के आधार पर यह एक्शन लिया गया है।

19 जून को मिली रिपोर्ट में महिला के आरोप सही पाए जाने पर शिव कुमार व दीपक के खिलाफ पारा थाने में केस दर्ज हुआ है।

मामले की जांच एएसपी क्राइम डॉ़ संजय कुमार को सौंपी गई है।

महिलाओं के खिलाफ दर्ज लूट के मुकदमे की जांच किसी अन्य जिले के पुलिस अफसर से करवाने के लिए आईजी जोन ए़ सतीश गणेश को पत्र लिखा गया है।

सस्पेंड पुलिसकर्मियों को दूसरे जिले में भेजे जाने की भी संस्तुति की गई है।

एएसपी ग्रामीण के पेशकार अमित तोमर को पारा थाने का नया एसओ बनाया गया है।

इससे पहले भ्‍ाी चर्चा में आए हैं अशोक यादव

-अशोक यादव इससे पहले जियामऊ में विधायक रामपाल की इमारत गिराने के दौरान एक्शन लेने पर चर्चा में आए थे।

-उनके थाने का ही एक कॉन्स्टेबल मोबाइल चोरी के आरोपित को बेरहमी से पीटने पर सस्पेंड हो चुका है।

-एसएसपी के अनुसार, दो अन्य महिलाओं ने भी पारा थाने के पुलिसकर्मियों द्वारा उत्पीड़न की शिकायत उनसे की है।

Newstrack

Newstrack

Next Story