×

J&K में शहीद हुआ बलिया का लाल, पिता बोले- आतंकवाद पाल रही केंद्र सरकार

जम्मू कश्मीर के रामबन जिले के बनिहाल में बुधवार रात आतंकी हमले में शहीद हुए एसएसबी के हवलदार राम प्रवेश यादव के पिता ने कश्मीर में आतंकवाद की घटनाओं में सैनिकों के लगातार शहीद होने के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 21 Sep 2017 1:02 PM GMT

J&K में शहीद हुआ बलिया का लाल, पिता बोले- आतंकवाद पाल रही केंद्र सरकार
X
J&K में शहीद हुआ बलिया का लाल, पिता बोले- आतंकवाद पाल रही केंद्र सरकार
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

बलिया : जम्मू कश्मीर के रामबन जिले के बनिहाल में बुधवार रात आतंकी हमले में शहीद हुए एसएसबी के हवलदार राम प्रवेश यादव के पिता ने कश्मीर में आतंकवाद की घटनाओं में सैनिकों के लगातार शहीद होने के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।

शहीद राम प्रवेश के पिता लाल बचन यादव ने गुरुवार को कहा है कि केंद्र सरकार की विफलता के कारण कश्मीर में आतंकी घटनाओं में सैनिक लगातार शहीद हो रहे हैं। सरकार स्वयं आतंकवाद पाल रही है।

उन्होंने इसके साथ ही कहा है कि सरकार की विफलता के कारण ही कश्मीर में पाक से आतंकी घुसपैठ कर रहे हैं। उनका कहना है कि सरकार सीमा की सुरक्षा में तैनात सैनिकों की न तो सुविधा का कोई ख्याल रख पा रही है और न ही सैनिकों की जान की हिफाजत का ही माकूल प्रबंध कर पा रही है।

यह भी पढ़ें ... कश्मीर: बनिहाल में एसएसबी कैंप पर आतंकी हमला, दो जवान शहीद

आतंकवाद पर अंकुश लगे

शहीद के पिता का कहना है कि केंद्र सरकार को आतंकवाद पर अंकुश लगाने के लिए निर्णायक कदम उठाना चाहिए। उन्होंने कहा कि उसके 2 बेटे हैं। लंबाई कम होने के कारण वे सेना में शामिल नहीं हो सकते। लेकिन, यदि दोनों पौत्र अहर्ता रखेंगे, तो वे उन्हें सेना में भेजेंगे। शहीद राम प्रवेश की पत्नी चिंता ने कहा कि उसके 2 बच्चे (आयुष (7) व पीयूष (4) ) हैं। वह अपने बच्चों को पढ़ा-लिखाकर नौकरी करने लायक बनाएंगी। बता दें कि शहीद राम प्रवेश के तीन भाई और एक बहन हैं।

बलिया जिले के मऊ जिले की सीमा से सटे उभांव थाना क्षेत्र के टंगुनिया ग्राम के मूल निवासी 32 साल के राम प्रवेश कक्षा 11 की पढ़ाई करते समय ही साल 2006 में एसएसबी में भर्ती हुए थे।

यह भी पढ़ें ... शहीद ब्रजेन्द्र बहादुर की अंतिम यात्रा में नम हुई सबकी आंखें, लगे ‘पाक मुर्दाबाद’ के नारे

शहीद राम प्रवेश के पिता ने बताया कि जैसे ही उन्हें पुलिस के जरिए अपने बेटे के शहीद होने की जानकारी मिली, उनके घर पर कोहराम मच गया। घर पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। राम प्रवेश की पत्नी और मां का रो-रो कर बुरा हाल है।

ग्रामीणों ने इस दौरान पाकिस्तान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। सांसद रविंद्र कुशवाहा, विधायक धनंजय कनौजिया सहित विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता शहीद के घर पहुंचे। सांसद कुशवाहा ने गांव में शहीद की स्मृति में शहीद द्वार और मार्ग निर्माण कराने की घोषणा की।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story