Top

उन्नाव सदर तहसील में लगी भीषण आग से रिकॉर्ड राख, साजिश की आशंका

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 17 May 2016 9:24 PM GMT

उन्नाव सदर तहसील में लगी भीषण आग से रिकॉर्ड राख, साजिश की आशंका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उन्नावः यहां की सदर तहसील में मंगलवार को अचानक भीषण आग लग गई। आग तहसील के रिकॉर्ड रूम में लगी। फायर ब्रिगेड कर्मचारियों ने बड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया, लेकिन तब तक ज्यादातर रिकॉर्ड राख हो चुके थे। रिकॉर्ड रूम में आग किस वजह से लगी, ये अभी पता नहीं चला है, लेकिन साजिश की आशंका यहां के कर्मचारी दबी जुबान से जता रहे हैं।

यह भी पढ़ें...मंडी भवन में साजिश के तहत आग लगने की चर्चा, एपीसी ने बिठाई जांच

रिकॉर्ड रूम में नहीं था कोई

-जब तहसील के रिकॉर्ड रूम में आग लगी, उस वक्त कोई वहां नहीं था।

-अचानक धुआं निकलते देख आग लगने का पता कर्मचारियों को लगा।

-उप जिलाधिकारी समेत कई अफसर तुरंत मौके पर पहुंचे।

-आग बुझने पर पता चला कि ज्यादातर रिकॉर्ड जलकर राख हो गए हैं।

-तमाम फाइलें दमकल के पानी की वजह से भी नष्ट हो गई हैं।

unn-fire-1 आग से नष्ट हुईं तमाम फाइलें

अहम दस्तावेज हो गए राख

-आवंटन की फाइलों समेत कई गांवों के राजस्व अभिलेख जलकर राख हो गए।

-तहसील के रिकॉर्ड रूम में पट्टे से संबंधित दस्तावेज भी रखे जाते हैं।

-खेतों और जमीनों का खसरा और खतौनी जलने से किसी गड़बड़ी के भी प्रकाश में आने की समस्या होगी।

unn-fire-3 फायर ब्रिगेड की दमकलों से पानी की बौछार करने से भी नष्ट हुए दस्तावेज

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story