Top

Mathura News: यति नरसिंहानंद सरस्वती ने कहा- हिंदू एक नहीं हुए तो 2029 में जिहादी बनेगा भारत का प्रधानमंत्री

डासना देवी मंदिर गाजियाबाद के महंत हिंदूवादी संत यति नरसिंहानंद सरस्वती गोवर्धन पहुंचे। उन्होंने गिरिराज तलहटी में मंत्रोच्चारण के साथ पूजा अर्जना कर गिरिराज प्रभु का दुग्धाभिषेक किया।

Nitin Gautam

Nitin GautamReporter Nitin GautamMonikaPublished By Monika

Published on 10 Jun 2021 12:52 PM GMT

Mahant Narasimhanand Saraswati
X

महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मथुरा: मथुरा में कृष्ण जन्म भूमि, अयोध्या का राम मंदिर, काशी विश्वनाथ आदि हिंदुओं के धार्मिल स्थल जिहादियों ने तोड़े। हिंदूवादी लोग संगठित नहीं हुए तो 2029 तक भारत में जिहादी ही देश में प्रधानमंत्री के रुप में प्रतिनिधित्व करेगा, इस लिए देश भर में संत महंतों से चर्चा कर हिंदुत्व को जगाया जा रहा है। यह बात डासना देवी मंदिर के महंत हिंदूवादी संत यति नरसिंहानंद सरस्वती ने गोवर्धन में गोरक्षक दल व बृज के संतों के बीच कही।

बृहस्पतिवार को डासना देवी मंदिर गाजियाबाद के महंत हिंदूवादी संत यति नरसिंहानंद सरस्वती गोवर्धन पहुंचे। उन्होंने गिरिराज तलहटी में मंत्रोच्चारण के साथ पूजा अर्जना कर गिरिराज प्रभु का दुग्धाभिषेक किया। यहां से वह रमणरेती आश्रम पहुंचे। इसके बाद उन्होंने वहां गोरक्षक दल के कार्यकर्ता व संत महंतों के साथ बैठक करते हुए हिंदुत्व पर चर्चा करते हुए कहा कि जिहाद भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के लिए बड़ा खतरा बन रहा है। जिहादी दुनिया को मिटाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि हिंदूवादी विचारधारा के लोग संगठित नहीं हुए तो 2029 में भारत में जिहादी ही प्रधानमंत्री बनकर प्रतिनिधित्व करेगा। उन्होंने कहा कि भारत में जिहादियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है।

प्राणों की आहुति देने को तैयार

पत्रकारों से वार्ता करते हुए यति नरसिंहानन्द ने बताया कि हिंदुओ के धार्मिक स्थल, मथुरा में कृष्ण जन्म भूमि, अयोध्या का राम मंदिर, काशी विश्वनाथ मंदिर, सोमनाथ मंदिर आदि जिहादियों ने तोड़े हैं। उन्होंने कहा कि हिंदुत्व को जगाने के लिए पूरे भारत वर्ष के संत महंतों से मिलने के लिए निकले हैं। सनातन धर्म, संस्कृति और माता बहिनों की अस्मत बचाने के लिए प्राणों की आहुतियां क्यों न देनी पड़ें देंगे। लेकिन कट्टरपंथी विचार धारा के जिहादियों को भारत की सनातनी धर्म संस्कृति से नही खेलने देंगे। मंच संचालन भगवत प्रवक्ता पूरन कौशिक व हरिओम शर्मा ने किया।

Monika

Monika

Next Story