Top

बर्खास्त सपा नेता से खौफजदा मेरठ विवि​ छात्र संघ पदाधिकारी, सरकार ने दी है 'Y' SECURITY

बीते महीनों तक सपा की यूथ विंग के नेता अतुल प्रधान को पश्चिमी यूपी में पार्टी का चेहरा माना जाता था। इन्हें सीएम अखिलेश यादव के खास लोगों में गिना जाता है, लेकिन सपा परिवार में विवाद के दौरान उन्हें पार्टी से बाहर कर दिया गया और मेरठ के सरधना से उनका टिकट भी कट गया।

zafar

zafarBy zafar

Published on 10 Dec 2016 1:05 PM GMT

बर्खास्त सपा नेता से खौफजदा मेरठ विवि​ छात्र संघ पदाधिकारी, सरकार ने दी है Y SECURITY
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: चौधरी चरण सिंह विवि, मेरठ के छात्र संघ पदाधिकारी एक बर्खास्त सपा नेता अतुल प्रधान के खौफ में जी रहे हैं। छात्र नेताओं के मुताबिक जब उन्होंने प्रधान के गैरवाजिब कामों में साथ देने से इनकार कर दिया तो वह अब पुलिस बल का इस्तेमाल कर उनके घर-परिवार के लोगों को परेशान कर रहा है। छात्र संघ के इन पदाधिकारियों के परिजनों को पुलिस ने थाने में बिठा रखा है।

शिवपाल ने दिया आश्वासन

-पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने जांच करवाने और फाइनल रिपोर्ट लगवाने की बात कही।

-शिवपाल से पूछा गया था कि क्या सीसीयू यूनिवर्सिटी छात्र संघ के पदाधिकारियों ने उनसे मिल कर फर्जी मुकदमा दर्ज किये जाने की शिकायत करके अपना डर जताया था।

-इस पर शिवपाल ने कहा कि उन्होंने एसएसपी से बात की है और किसी बेगुनाह को परेशान नहीं किया जाएगा।

-उन्होंने आश्वासन दिया कि मामले की जांच होगी और इस पर फाइनल रिपोर्ट लगेगी।

-बीते महीनों तक सपा की यूथ विंग के नेता अतुल प्रधान को पश्चिमी यूपी में पार्टी का चेहरा माना जाता था।

-इन्हें सीएम अखिलेश यादव के खास लोगों में गिना जाता है, लेकिन सपा परिवार में विवाद के दौरान उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया गया था।

-हाल ही में विधानसभा चुनाव के टिकट बंटवारे में मेरठ के सरधना से उनका टिकट कट गया था।

पिछले महीने मिली है वाई श्रेणी की सुरक्षा

-भले ही अतुल प्रधान को समाजवादी पार्टी से बर्खास्त कर दिया गया हो, लेकिन इसे सरकार की मेहरबानी ही कहेंगे कि उन्हें पिछले महीने वाई श्रेणी की सुरक्षा दी गई।

-बताया जा रहा है कि विवाद के चलते उन्होंने वाई श्रेणी की सुरक्षा की मांग की थी।

-उनके सुरक्षा आवेदन पर गृह विभाग ने बैठक में चर्चा के बाद वाई श्रेणी की सुरक्षा देने की मंजूरी दी थी।

-वाई श्रेणी की सुरक्षा में कुल 11 पुलिस कर्मी मौजूद होते हैं। इनमें दो सब इंस्पेक्टर, दो हेड कांस्टेबल, दो कांस्टेबल और दो होमगार्ड होते हैं।

-वाई श्रेणी की सुरक्षा में एक गाड़ी और ड्राइवर भी उपलब्ध कराया जाता है।

zafar

zafar

Next Story