Top

राजधानी से भी तेज दौड़ेगी ये मिल्क वैन, रफ्तार सुनेंगे तो चौंक जाएंगे आप

aman

amanBy aman

Published on 20 Aug 2016 11:07 AM GMT

राजधानी से भी तेज दौड़ेगी ये मिल्क वैन, रफ्तार सुनेंगे तो चौंक जाएंगे आप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुरादाबाद : देश के एक भाग से दूसरे भाग तक कम समय में दूध पहुंचाने की योजना के मद्देनजर इंडियन कोच फैक्ट्री (आइसीएफ) ने आधुनिक मिल्क वैन बनाई है। इसके तहत रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड ऑर्गेनाइजेशन (आरडीएसओ) की टीम ने बरेली से दलपतपुर के बीच नई 'मिल्क वैन' का ट्रायल शुरू किया है। यह ट्रायल 29 अगस्त तक चलेगा।

ये भी पढ़ें ...सीएम अखिलेश ने किया मीडिया पर हमला, पूछा- क्यों करवाते हो चाचा-भतीजे के बीच झगड़ा

अब तक कैसे कम करता था 'मिल्क वैन'

-वर्तमान में दूध लेकर जाने वाली वैन को मालगाड़ी का दर्जा प्राप्त है।

-इसकी अधिकतम गति 75 किमी प्रतिघंटा होती है।

-रफ्तार कम होने से दूध देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से तक पहुंचने में कई दिन लग जाते हैं।

-समय अधिक लगने से दूध खराब होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

ये भी पढ़ें ...HC जाएगा रेप विक्टिम का परिवार, फास्‍ट ट्रैक कोर्ट ने नहीं दी एबॉर्शन की अनुमति

इस वैन में क्या है खास ?

-मंत्रालय के मुताबिक इस एक वैन में 44,666 लीटर दूध ले जाने की क्षमता है।

-शुक्रवार के ट्रायल में इस वैन को 70 किमी प्रतिघंटा की गति से चलाया गया।

-वहीं आने वाले दिनों में इसकी रफ्तार को बढाकर 120 किमी प्रतिघंटा तक किया जाना है।

-इस बारे में अपर मंडल रेल प्रबंधक संजीव मिश्र ने बताया कि नए मिल्क टैंक वैन का आरडीएसओ ने ट्रायल शुरू कर दिया है।

ये भी पढ़ें ...सोनिया के रोड शो का बदला लेगी बीजेपी, रायबरेली में मोदी करेंगे रैली

रेल मंत्रालय ने की पहल

-अब रेल मंत्रालय ने शाम के दूध को सुबह तक पहुंचाने की योजना बनाई है।

-इसलिए अब दूध वाली वैन का मालगाड़ी का दर्जा खत्म कर उसे राजधानी का दर्जा देने की योजना बनाई है।

-इंडियन रेलवे कोच फैक्ट्री ने इसका नाम 'मिल्क टैंक वैन वीवीएच-1' रखा है।

-इसकी गति 115 से 150 किमी प्रतिघंटा होगी।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story