Top

Moradabad News : फर्जी मुकदमा लिखाने वालों की खैर नहीं, जांच में दोषी पाए जाने पर होगी कार्रवाई

Moradabad News: मुरादाबाद पुलिस ने एक मुहिम चलाई है। पुलिस थाने में FIR लिखने के बाद मामले की गंभीरता से जांच करेगी।

Moradabad Shahnawaz

Moradabad ShahnawazReporter Moradabad ShahnawazShraddhaPublished By Shraddha

Published on 10 Jun 2021 12:50 PM GMT

मुरादाबाद पुलिस ने एक मुहिम चलाई है।
X

मुरादाबाद पुलिस थाना 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Moradabad News : अब फर्जी मुकदमे (Fake case) लिखाने वालों की खैर नहीं है, अक्सर आपने देखा होगा कि लोग दूसरों को फसाने के लिए रंजिशन फर्जी मुकदमे लिखवा देते हैं और बेगुनाह लोग उसकी सजा भुगतते हैं, इसी को लेकर मुरादाबाद पुलिस (Moradabad Police) ने एक मुहिम चलाई है। अब पुलिस थाने में FIR यानी प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखने के बाद उस पूरे मामले की गंभीरता से जांच कर अग्रिम कार्यवाही कर रही है।

मुरादाबाद के पुलिस अधीक्षक ग्रामीण विद्यासागर मिश्र (Vidyasagar Mishra) के मुताबिक पुलिस ने ऐसे 9 मामलों को चिन्हित किया है जो झूठे दर्ज कराए गए थे, पुलिस ने इन मामलों को दर्ज कराने वाले वादी के खिलाफ न्यायालय में रिपोर्ट प्रेषित की है, अब न्यायालय के आदेश पर सीआरपीसी (crpc) की धारा 182 के तहत यह झूठे मामले दर्ज कराने वाले सभी 9 वादी के खिलाफ भी पुलिस कार्यवाही करेगी।

मुरादाबाद के अलग-अलग थानों में दर्ज कई मामलों में जब पुलिस को पता चला कि ये सभी मामले फर्जी दर्ज कराए गए हैं, तब पुलिस अधिकारियों ने इस मामले में और गहराई से जांच कराई और जांच में झूठे मुकदमे दर्ज कराने वालों के खिलाफ न्यायालय में रिपोर्ट पेश की। ताकि झूठा मुकदमा दर्ज कराने वाले लोगों को भी उनके इस गुनाह की सजा मिले।

मुरादाबाद के एस पी विद्यासागर मिश्रा

मुरादाबाद के एस पी ग्रामीण विद्यासागर मिश्रा का कहना है कि लोग अपने साथी या पड़ोसी पर व्यक्तिगत रंजिश निकालने के लिए या व्यावसायिक या आर्थिक हित को साधने के लिए फर्जी मुकदमा लिखवा देते हैं। प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखना पुलिस की बाध्यता है ,लेकिन विवेचना में फर्जी साक्ष्य प्रस्तुत करने पर पुलिस धारा 182 के तहत माननीय न्यायालय को रिपोर्ट प्रेषित करती है ताकि ऐसे फर्जी मुकदमे लिखवाने वाले प्रवृत्ति के लोगों को सबक मिलना चाहिए। जिसमें आरोपी को छह माह की सजा या एक हजार रुपये का जुर्माना होता है, मुरादाबाद पुलिस ने 1 साल के आकलन के बाद ऐसे मामलों पर कार्यवाही के लिए माननीय न्यायालय को अपील दाखिल की है सबसे ज्यादा ऐसे मामले मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा थाना क्षेत्र में सामने आए हैं इस थाने में 9 मामले फर्जी पाये गए हैं , ऐसी प्रवृत्ति के लोगों को हतोत्साहित करने का प्रयास किया जा रहा है।

Shraddha

Shraddha

Next Story