×

मुरारी बापू की इस अंदाज में रामकथा आपने कभी नहीं सुनी होगी...

गोरखपुर। गोरखनाथ मन्दिर व रामकथा प्रेम यज्ञ समिति के तत्वावधान में ब्रह्मलीन महन्त अवेद्यनाथ जी की स्मृति में चंपा देवी पार्क में आयोजित नौ दिन तक चलने वाली रामकथा में मुख्य विषय ‘मानस जोगी’ के उद्घोष मन्त्रोच्चारण के साथ दूसरे दिन की रामकथा का शुभारंभ करते हुये मोरारी बापू जी ने बजरंग बली की मंगल स्तुति के साथ की

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 6 Oct 2019 4:11 PM GMT

मुरारी बापू की इस अंदाज में रामकथा आपने कभी नहीं सुनी होगी...
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

गोरखपुर। गोरखनाथ मन्दिर व रामकथा प्रेम यज्ञ समिति के तत्वावधान में ब्रह्मलीन महन्त अवेद्यनाथ जी की स्मृति में चंपा देवी पार्क में आयोजित नौ दिन तक चलने वाली रामकथा में मुख्य विषय ‘मानस जोगी’ के उद्घोष मन्त्रोच्चारण के साथ दूसरे दिन की रामकथा का शुभारंभ करते हुये मोरारी बापू जी ने बजरंग बली की मंगल स्तुति के साथ की

‘‘मंगल भवन, अमंगल हारी,

द्रवउ सो दशरथ अजिर बिहारी’’

चौपाई के साथ महायोगी भगवान भोलेनाथ के महायोगी रूप की स्तुति करते हुये कहा कि-

हमरे जान सदा शिव जोगी।

अज अनवघ अकाम अभोगी।।

एहि जग जामिनि जगहिं जोगी।

परमारथी प्रपंच वियोगी।।

अर्थात परम योगी महादेव के अवतार प्रभु गोरक्षनाथ भी अजन्मे हैं, जैसे की स्वयं भगवान शंकर अजन्मे है। इनका जन्म नहीं होता ये समस्त ब्रम्हाण्ड में अपने मूल रूप में विद्यमान हैं।

आज गुरू गोरक्षनाथ के उत्पत्ति स्थल को लेकर विद्वानों में बड़ा विवाद है, किसी ने भगवान गोरक्षनाथ को इधर प्रकट किया तो, किसी ने उधर प्रकट किया। परन्तु सारे लोग उन्हें हृदय में प्रकट करना भूल गये।

नाम भेद पर तत्वतः सभी एक

सात्विक एवं तात्विक चर्चा करते हुए बापू ने कहा कि जिस प्रकार से भक्त, भक्ति, भगवान और गुरू के नाम में भेद है, परन्तु तत्वतः ये सभी एक ही है। वैसे ही मानस में प्रभु श्रीराम का नाम, राम की कथा, स्वयं भगवान राम तथा भरत जी एक ही है, केवल नाम में भेद है।

जो कार्य प्रभु श्रीराम ने त्रेता युग में किया, वही कार्य हमारे लिए कलयुग में श्रीराम की कथा व राम का नाम कर रहा है। अतः ये कलयुग नही, बल्कि कथा युग है।

जब चतुराई रहित बुद्धि में हरि की करूणा आएगी, तब हम आप ऐसे ही रूपांतरित होगें। भारत जैसा चितंन कही नही हुआ, भारत जैसा सदग्रन्थ कहीं नहीं है।

स्मृतियां 108 लेकिन महत्व चार को

बापू ने रामचरित मानस के बारे में भक्तों को बताया कि रामायण की रूप रेखा यहीं से शुरू होती है। धार्मिक दृष्टि से रामायण के बालकाण्ड अत्यन्त महत्वपूर्ण है। बापू ने कथा के दौरान बताया कि हृदय में राम विराजमान है। कागभुसुण्ड़ी को तुलसीदास जी ने सुशील कहा था, क्योंकि कागभुसुण्ड़ी कथा व मंगलाचरण कर रहे थे, तभी गरूड़ देव पधारे। कागभुसुण्ड़ी जी ने कथा बीच में छोड़ दी और गरूड़ देव का स्वागत किया, इससे उनकी सुशीलता का बोध होता है। 108 स्मृतियां है, लेकिन ज्ञानी लोग चार को महत्व देते है।

हमारे पास आज भगवान स्वयं नही है, परन्तु हमारे पास एक रास्ता है उनसे संवाद करने का, वो है- प्रभु श्रीराम का नाम?

बापू ने इस वृृतांत को गोरक्ष परंपरा से जोड़ते हुये कहा कि जिस प्रकार शिव, हनुमान, भरत और स्वयं राम एक है, उसी प्रकार गोरक्ष परंपरा में मत्स्येन्द्रनाथ, गोरक्षनाथ, सिद्ध व नाथ नाम चार है, परन्तु तत्व एक ही है। पूरी नाथ परंपरा का मूल तत्व भगवान महादेव है।

गुरू गोरक्षनाथ स्वयं महादेव के अवतार हैं। महादेव ने योग मार्ग का प्रचार-प्रसार करने के उद्देश्य से गोरखनाथ का अवतार धारण किया था। योग की जितनी विधियां गोरक्षनाथ ने खोजी है, अन्य किसी ने नहीं खोजी हैं।

बापू ने कथा को विस्तार देते हुये कहा कि आज विश्व को एक ऐसे योगी की आवश्यकता है जो गुफाओं-कन्दराओं में बैठकर तपस्या करते न हो, बल्कि ऐसे योगी की जरूरत है, जो सदाशिव हो और सदैव विश्व कल्याण करता हो।

गोबर से हुई गोरक्षनाथ की उत्पत्ति

उन्होने कथा के दौरान नाथ परंपरा और गोरक्षनाथ की उत्पत्ति पर प्रकाश डालते हुये कहा कि- एक गरीब ब्राह्मणी, जिसके कोई पुत्र नहीं था। उसने गुरू मत्स्येन्द्रनाथ से प्रार्थना किया कि हे प्रभु मुझे वरदान दे कि मुझे पुत्र की प्राप्ति हो। गुरू मत्स्येन्द्रनाथ ने ब्राह्मणी को अपने यज्ञ कुण्ड से भस्म निकाल कर दिया और कहा कि तुम इसका सेवन करो तुम्हें महादेव जैसा पुत्र प्राप्त होगा। परन्तु लोकलाज व निन्दा के डर से ब्राह्मणी ने भस्म को अपने घर के समीप गोबर में समाहित कर दिया।

गोरक्ष चरित्र में कहा गया है कि बारह वर्ष के उपरान्त जब गुरू मत्स्येन्द्रनाथ ब्राह्मणी के कुटिया पर उसके पुत्र के दर्शन के लिए पधारे तो उन्हें देखकर ब्राह्मणी संकोच में पड़ गयी । ब्राह्मणी से पुत्र के बारे में पूछने पर बताया कि लोक निन्दा के कारण भस्मरूपी प्रसाद को मैने गोबर के ढ़ेर में फेंक दिया था। तब गुरू मत्स्येन्द्रनाथ ने गोबर के ढ़ेर के पास जाकर आवाज दिया तो बारह वर्ष का एक शिवयोगी उस गोबर के ढ़ेर से निकले। बारह वर्षों तक वह उस ढेर में जागते रहें क्योंकि परमार्थ के कार्य हेतु इस धरा पर उनका अवतरण हुआ।

कर्मफल विधाता देता है मां केवल जन्म देती है

कथा के दौरान श्रद्धालुओं के बीच से एक प्रश्न पूछा गया कि जब प्रभु श्रीराम के इच्छा के बिना एक पता भी नहीं हिलता, और जो हम करते है वो भी प्रभु के इच्छा से ही करते है तो उस कार्य के लिए हम क्यों उत्तरदायी होते है।

इस प्रश्न का उत्तर देते हुए बापू ने कहा कि

जनम हेतु सब कहं कितु माता।

करम सुभासुभ देई विधाता।।

अर्थात सभी के जन्म का कारण माता-पिता होते हंै और सभी के शुभ-अशुभ कर्मों का फल विधाता देते है। हमें फल की चिंता किये बिना अपना कर्म करना चाहिए। क्योंकि राम परीक्षा का नहीं प्रतिक्षा का विषय है।

गुरु शिष्य को देता है अपना मार्ग चुनने की दृष्टि

यदि प्रमाणिक प्रयत्नों को करने के बाद भी इच्छित फल की प्राप्ति ना हो तो हमें उदास अथवा कुण्ठित नहीं होना चाहिए, क्योंकि गोस्वमी तुलसीदास ने मानस में कहा है कि -

होईहि सोइ जो राम रचि राखा।

को करि तर्क, बढ़ावै साखा ।।

अर्थात जो कुछ राम ने रच रखा है, वही होगा।

बापू ने कहा कि यदि परम तत्व से कुछ मांगना है तो भक्ति मांगो ताकि समस्त संसार में भक्ति बांट सको। गुरू अपने शिष्य को ऐसी दृष्टि प्रदान करता है। जिसे शिष्य अपना मार्ग स्वयं चुन सके।

उन्होंने कहा कि ईश्वर निराकार व साकार दोनो है। हरिनाम एक गोरखधन्धा है। गोरखधन्धा का अर्थ है- ईश्वर निराकार भी है, साकार भी है। आपकी साधना अगम-अगोचर है।

2500 वर्ष पूर्व महात्मा बुद्ध ने कहा था कि-

बुद्ध शरणम् गच्छामि

धम्मम शरणम् गच्छामि

स्ंाघम शरणम् गच्छामि

परन्तु आज के परिपेक्ष में हम सबके लिए यह उपयुक्त है कि-

शुद्धंम् शरणम् गच्छामि।

अर्थात शुद्ध व्यक्तियों, महात्माओं के शरण व संगति में जाओ।

संगम शरणम् गच्छामि।

अर्थात जहां ऐेसे लोगो का संगम हो जो लोगो को तोड़ते नहीं, जोड़ते हैं। उनकी शरण में जाओ।

धन्याम शरणम् गच्छामि।

अर्थात जिनका जन्म धन्य हो गया हो उनकी शरण में जाओ। वह धन अच्छा है, जो दान में जाता है। वह देश धन्य है, जहां गंगा बहती है। उल्टे राम नाम के जप से वाल्मिकी शुद्ध एवं सिद्ध हो गये।

बापू ने द्वितीय दिवस के कथा के अंत में बताया कि मंत्र, माला व मूर्ति तीन वस्तुयें कभी नहीं बदलनी चाहिए।

चंपा देवी पार्क में आज रामकथा के दूसरे दिन लगभग 50000 श्रद्धालुओं ने सिद्ध मर्मज्ञ मोरारी बापू के मुखारविंद से बरस रही राम कथा का रसपान किया। लगभग 7000 हजार श्रद्धालुओं ने इस अवसर पर प्रसाद ग्रहण किया। इस अवसर पर गोरखनाथ मन्दिर और काशी विश्वनाथ वाराणसी के लगभग 250 कार्यकर्ता व्यवस्था में लगे हुये थे। कथा स्थल पर पेयजल, टायलेट एवं पार्किंंग की समुचित व्यवस्था की गई है। साथ ही मेडिकल कैंप, गीता प्रेस का स्टाल, बापू कथा डी0वी0डी0, पेन ड्राइव स्टाल, फायर ब्रिगेड, पुलिस चैकी की समुचित व्यवस्था है।

हर कोई बापू के भजनों पर झूम उठा

आयोजन समिति के कार्यकर्ताओं ने बड़ी मुस्तैदी व फुर्ती के साथ आंगतुक श्रद्धालुओं के हर समस्या का समाधान किया। कथा के दौरान बच्चे, बुढ़े, जवान हर कोई बापू के भजनों पर झूम उठा। त्योहारों की छुटियां होने के कारण बुजुर्गों के साथ-साथ बच्चो और युवाओं में काफी उत्साह देखने को मिला।

कथा के अंत में छात्रों, एन0सी0सी0 का एक दल आरती के दौरान मानस पीठ के पास उपस्थित होकर बापू का आर्शीवाद ग्रहण किया। बापू ने प्रत्येक श्रद्धालुओं से प्रसाद ग्रहण करने का आग्रह किया। कल तृतीय दिन की कथा प्रातः 9.30 बजे से प्रारम्भ होगी।

राम केवी

राम केवी

Next Story