Top

हॉस्पिटल में स्वाथ्य राज्य मंत्री के इंस्पेक्शन के समय पीटी गई प्रसूता

Admin

AdminBy Admin

Published on 20 April 2016 7:34 AM GMT

हॉस्पिटल में स्वाथ्य राज्य मंत्री के इंस्पेक्शन के समय पीटी गई प्रसूता
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः स्वास्थ राज्य मंत्री जब डफरिन हॉस्पिटल का निरीक्षण कर रहे थे, उसी समय अस्पताल के कर्मचारी एक प्रसूता को पीट रहे थे। हद तो तब हो गयी जब प्रसूता ने इसकी शिकायत मंत्री से की तो कर्मचारियों ने खुद अपने ही कपडे फाड़ कर उल्टा आरोप प्रसूता पर ही लगा दिया।

इस प्रसूता का बीते दिन अस्पताल के शौचालय में ही प्रसव हो गया था, जिसमें उसके बच्चे की मौत हो गई। इसके बावजूद भी अस्पताल प्रशासन का दिल नहीं पसीजा। प्रसूता बार-बार इलाज की गुहार लगाती रही लेकिन कर्मचारी उसे अनसुना कर वसूली में व्यस्त थे। थक हार कर प्रसूता ने अपनी जान बचाने के लिए अस्पताल से डिस्चार्ज होना चाहा तब भी उसे जबरन रोका गया।

यह भी पढ़ें...हॉस्पिटल में बच्चे को कुत्ते ने काटा, उल्टे पिता पर हो गया केस

d.pidita-1 पीटाई के बाद रोती प्रसूता

खफा कर्मचारियों ने पीटा

प्रसूता की मां ने कहा कि हमने डफरिन में हो रही गड़बड़ी के मामले में शिकायत दर्ज कराई थी, जिससे यहां के कर्मचारी प्रसूता और उसकी मां से नाराज हो गए। जब वो अकेले थी तभी कुछ महिला कर्मचारियों ने आकर दोनों की पिटाई कर दी।

क्या था पूरा मामला?

-सआदतगंज की एक गर्भवती ने 16 अप्रैल को डफरिन अस्पताल के शौचालय में एक बच्चे को जन्म दिया।

-बच्चा 7 महीने का था समय से पहले जन्म होने के कारण बच्चे की मौके पर ही मौत हो गई।

-प्रसूता और उसके तीमारदारों ने अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाया की तेज दर्द के बाद भी कोई डॉक्टर या नर्स प्रसूता को देखने नहीं आए।

-उन्होंने यहां के गार्ड्स और कर्मचारियों के ऊपर भी वसूली के आरोप लगाए।

यह भी पढ़ें...MR के भरोसे हॉस्पिटल, डॉक्‍टर के कहने पर दे रहा था दवाई

-आनन फानन में अस्पताल के गार्ड अश्वनी को नौकरी से निकाल दिया गया।

-प्रसूता और उसकी मां से नाराज कर्मचारियों ने दोनों की पिटाई कर दी।

-डीजी परिवार कल्याण प्रमुख सचिव, सीएमओ, स्वास्थ्य राज्य मंत्री और मदर चाइल्ड हेल्थ केयर की डायरेक्टर जांच के लिए डफरिन पहुंचे और सबके बयान दर्ज किए।

d.hospital शिकायत करती पीड़िता

नहीं कर रहे थे डिस्चार्ज

-प्रसूता की मां ने कहा कि उनकी बेटी को अस्पताल प्रशासन डिस्चार्ज नहीं कर रहा था।

-उन्हें डर था की कहीं उनकी बेटी को और ना मारा जाए, इसी डर से वह यहां से जल्दी जाना चाहती थीं।

-अस्पताल के कर्मचारी उनकी एक भी बात नहीं सुन रहे थे।

-काफी दबाव के बाद प्रसूता को डिस्चार्ज किया गया।

Admin

Admin

Next Story