×

संघ, भाजपा को सशक्त और सुदृढ़ बनाने में परशुराम मणि त्रिपाठी का अहम योगदान- देवरिया सांसद

देवरिया सांसद रमापति राम त्रिपाठी समेत अन्य लोगों ने परशुराम मणि त्रिपाठी की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित की।

Network

NetworkNewstrack NetworkChitra SinghPublished By Chitra Singh

Published on 29 May 2021 4:32 PM GMT

Statue of Parshuram Mani Tripathi
X

 परशुराम मणि त्रिपाठी की प्रतिमा-सांसद-विधायक

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

देवरिया: कोविड-19 निर्देशों का पालन करते हुए देवरिया के परशुराम चौराहे पर स्थित पूर्व एमएलसी स्वर्गीय पंडित परशुराम मणि त्रिपाठी की प्रतिमा पर सांसद देवरिया डॉक्टर रमापति राम त्रिपाठी, विधायक सत्यप्रकाश मणि त्रिपाठी, पूर्व विधायक रविंद्र प्रताप मल्ल ,पूर्व ब्लाक प्रमुख शैलेश कुमार त्रिपाठी आदि ने माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया। कार्यक्रम का संयोजन स्वर्गीय मणि के पौत्र प्रभात रंजन मणि त्रिपाठी एवं सभासद धर्मेंद्र सिंह ने किया।

अपने संबोधन में डॉ. रमापति राम त्रिपाठी ने कहा कि राजनीति ,शिक्षा और समाज सेवा तीनों ही क्षेत्रों में मणि ने आदर्श और कीर्तिमान स्थापित किया। उन्होंने जाति ,धर्म ,मजहब से ऊपर उठकर जनता की बड़ी ईमानदारी और निष्ठा से सेवा की, यही कारण है कि आज भी जनता उन्हें अपने दिलों में रखी हुई है । संघ, भाजपा को सशक्त और सुदृढ़ बनाने में स्वर्गीय मणि के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। डॉक्टर त्रिपाठी ने कहा कि स्वर्गीय मणि का व्यक्तित्व और कृतित्व आज के राजनीतिज्ञों के लिए प्रेरणा स्रोत है। अपने सार्वजनिक जीवन में स्वर्गीय मणि ने जिस पारदर्शिता, ईमानदारी,नैतिकता का परिचय दिया वह आज की पीढ़ी के लिए अनुकरणीय है ।

पं. परशुराम मणि त्रिपाठी सरस्वती के वरद पुत्र

देवरिया सदर के विधायक डॉक्टर सत्यप्रकाश मणि त्रिपाठी ने कहा कि पंडित परशुराम मणि त्रिपाठी सरस्वती के वरद पुत्र थे। उनकी ओजस्वी वाणी,उनका तेजस्वी व्यक्तित्व और समाज जीवन की प्रखरता कौन भूल सकता है। वह संघ, और भाजपा के जहां नीव के कार्यकर्ता थे, वही शिक्षा क्षेत्र में उत्तर प्रदेश प्रधानाचार्य परिषद की स्थापना कर उन्होंने माध्यमिक शिक्षा क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया। सामाजिक, राजनीतिक मूल्यों से स्वर्गीय मणि ने कभी समझौता नहीं किया इसीलिए आज भी सभी दलों ,वर्गों का उन्हें सदैव आदर और सम्मान प्राप्त है। विधान परिषद में जनसमस्याओं और शिक्षकों की समस्याओं को प्रस्तुत करने का उनका तरीका लाजवाब था।

महामानव थे परशुराम मणि त्रिपाठी

पूर्व विधायक रविंद्र प्रताप मल्ल ने मणि के साथ गुजरे क्षणों को याद किया और कहा कि मुझे तो लगता है कि वह मानव नहीं, महामानव थे। सेवा ,त्याग, समर्पण , करुणा ,दया व परोपकार आदि गुणों से वह परिपूर्ण थे, जनसेवा में इसकी झलक दिखाई पड़ती थी। पूर्व ब्लॉक प्रमुख शैलेश कुमार त्रिपाठी ने कहा कि वह जनपद के ग्राम बौरडीह के सामान्य परिवार से उठकर विधानमंडल के उच्च सदन ही नहीं ,राष्ट्रपति के हाथों शिक्षा क्षेत्र में अमूल्य योगदान के लिए सम्मानित भी हुए ।

युग पुरुष थे मणि

पत्रकार मारकंडे मिश्रा ने स्वर्गीय मणि को युग पुरुष बताया और आज के शिक्षकों ,प्रधानाचार्यो से उनके जीवन से प्रेरणा लेने की अपील की ।मीडिया प्रभारी अभिषेक पांडेय ने कहा कि वह राष्ट्रवादी सोच के व्यक्तित्व थे।राष्ट्रीय मूल्यों से उनकाबचपन से ही सदैव सरोकार बना रहा।

इस अवसर पर संयोजक प्रभात रंजन मणि त्रिपाठी ,सभासद धर्मेंद्र सिंह, नंदलाल यादव ,वीरेंद्र तिवारी, डॉ प्रवीण निखर ,रवि प्रताप सिंह, मृत्युंजय सिंह, डॉ अभय द्विवेदी और अभिषेक पांडे सहित तमाम लोगों ने स्वर्गीय मणि की प्रतिमा पर माल्यार्पण और पुष्पांजलि अर्पित किया तथा उन्हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि दी ।सभासद धर्मेंद्र सिंह ने आये हुए लोगो के प्रति आभार व्यक्त किया।।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story