Top

नकवी ने आपातकाल को बताया सबसे बड़ी असहिष्णुता, कहा- सिलेबस में हो शामिल

By

Published on 26 Jun 2016 1:13 PM GMT

नकवी ने आपातकाल को बताया सबसे बड़ी असहिष्णुता, कहा- सिलेबस में हो शामिल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: देश में इंदिरा गांधी द्वारा आपातकाल लगाए जाने के 41 साल पूरे होने पर बीजेपी ने लोकतंत्र रक्षक सेनानियों को सम्मानित किया। इस मौके पर केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण और संसदीय कार्य राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी रविवार को राजधानी लखनऊ में मौजूद थे।

नकबी ने कहा कि उस त्रासदी के 75 फीसदी लोग आज जीवित नहीं हैं। आपातकाल कांग्रेस की सामंती मानसिकता की देन हैं। स्वतंत्रता संघर्ष की तरह ही आपातकाल और लोकतंत्र की रक्षा के लिए भी लड़ाई लड़ी गई। आज जरुरत है कि उस दौर के संघर्ष को सिलेबस में शामिल किया जाए जिससे युवा यह जान सकें कि हमारे देश में लोकतंत्र की जड़े कितनी गहरी हैं।

bjp-emergency

कांग्रेस सामंती मानसिकता से बाहर नहीं आ पाई

-नकबी ने कहा कि उस आपातकाल के बाद से ही कांग्रेस मुक्त भारत की नींव रख दी गई थी।

-आपातकाल के बाद कांग्रेस एक बुझते हुए चिराग की तरह थी।

-आज भी कांग्रेस के आलाकमान के लोग उस सामंती मानसिकता से बाहर नहीं आ पाए हैं

यह भी पढ़ें ... NSG सदस्यता: राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशाना, कहा- नाकाम कूटनीति

पीएम मोदी ने दलालों और चोरों को लगाई लगाम

-मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कांग्रेस चाहती है कि या तो वे सत्ता में रहें या सत्ता का रिमोट उनके पास रहे।

-दलालों और पॉवर ब्रोकर एजेंट की नाकेबंदी पीएम नरेंद्र मोदी ने की।

-पहले यह माना जाता था कि सरकार किसी की हो लेकिन ये लूट करने वाले दलालों को कोई नहीं रोक सकता हैं।

-लेकिन पीएम मोदी ने रोका, तिजोरी लूट को ख़त्म किया जिसे कांग्रेस ने संरक्षण दे रखा था।

यह भी पढ़ें ... इमरजेंसी का काला सच, जानें कैसे बरपा था इंदिरा का कहर

केजरीवाल जब तक खुद को ईमानदार न बता लें खाना नहीं पचता

-नकवी ने कहा कि देश के लिए लड़ने वाले लोगों ने कभी नही सोचा कि देश की यूनिवर्सिटी में भी भारत की बर्बादी तक जंग लड़ने के नारे लगाए जाएंगे। एक अरविंद केजरीवाल हैं वे जब तक सुबह-सुबह पूरे देश के लोगों को बेईमान और खुद को सबसे बड़ा ईमानदार नहीं बता लेते तब तक उन्हें खाना ही नहीं पचता।

यह भी पढ़ें ... चुनावी शंखनाद में बोले अमित शाह-आपातकाल में असहिष्णुता क्यों नहीं दिखी

पीएम मोदी के कहने पर लाखों लोगों ने छोड़ी सब्सिडी

-पहले करप्शन की बात होती थी आज बात कनेक्शन की होती हैं।

-आज के दौर में नेताओं की जो रेपुटेशन है उसके कहने पर जनता एक चवन्नी नहीं छोड़ती है।

-लेकिन मोदी जी के कहने पर करोडो लोगों ने अपनी सब्सिडी छोड़ दी।

यह भी पढ़ें ... सिसोदिया-AAP विधायकों को पुलिस ने कस्‍टडी में लिया, धारा 144 लागू

असहिष्णुता और पुरस्कार वापसी पर नकवी ने कहा

-असहिष्णुता और पुरस्कार वापसी गैंग जो आज पीएम मोदी को पानी पी पीकर गाली देते हैं।

-वे आपातकाल के दौर को याद करें उन्हें समझ में आ जाएगा कि सहिष्णुता और असहिष्णुता क्या होती हैं।

Next Story