Top

विकास दुबे केस से दहशत में मुख्तार, सड़क मार्ग से यूपी में वापसी

प्रयागराज जोन के एडीजी प्रेम प्रकाश को मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से बांदा जेल लाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

Anshuman Tiwari

Anshuman TiwariWritten By Anshuman TiwariShivaniPublished By Shivani

Published on 5 April 2021 4:10 AM GMT

विकास दुबे केस से दहशत में मुख्तार, सड़क मार्ग से यूपी में वापसी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ। मऊ के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश लाने की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। प्रयागराज जोन के एडीजी प्रेम प्रकाश को मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से बांदा जेल लाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बाहुबली विधायक को सड़क मार्ग से ही बांदा जेल शिफ्ट किया जाएगा। कानपुर के माफिया विकास दुबे की गाड़ी पलटने की घटना के बाद सड़क के रास्ते बांदा भेजे जाने की खबर से माफिया डॉन दहशत में बताया जा रहा है।

इस बीच यूपी नंबर की जिस एंबुलेंस से मुख्तार अंसारी को मोहाली की अदालत में पेश किया गया था, वह रूपनगर जिले में रोपड़-मनाली हाईवे पर लावारिस हालत में खड़ी मिली है। मऊ और पंजाब गई पुलिस एंबुलेंस के तार खंगालने में लगी हुई है। पुलिस ने इस सिलसिले में माफिया के पांच गुर्गों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। बाराबंकी पुलिस ने मऊ की डॉ.अलका राय से इस सिलसिले में 4 घंटे तक पूछताछ की है।

आठ बार खाली हाथ लौटी यूपी पुलिस

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी रंगदारी के एक मामले में करीब दो साल से पंजाब की घोषणा जेल में बंद है। मुख्तार को उत्तर प्रदेश लाने के लिए प्रदेश की पुलिस आठ बार पंजाब गई मगर उसे हर बार खाली हाथ लौटना पड़ा। अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मुख्तार को उत्तर प्रदेश वापस लाने का रास्ता साफ हो गया है।
पंजाब सरकार ने लिखा यूपी को पत्र
पंजाब के अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह की ओर से मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश भेजे जाने के संबंध में यूपी के अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी को चिट्ठी लिखी गई है। इस चिट्ठी में मुख्तार को 8 अप्रैल से पहले उत्तर प्रदेश ले जाने को कहा गया है। मुख्तार को उत्तर प्रदेश भेजने के संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में दो हफ्ते का समय दिया था।

चिकित्सकीय सुविधाएं मुहैया कराने को कहा

पंजाब सरकार की ओर से भेजी गई चिट्ठी में मुख्तार को जेल में सभी सुविधाएं और चिकित्सकीय सुविधाएं मुहैया कराने के संबंध में भी अनुरोध किया गया है। इसके पीछे पंजाब सरकार ने अंसारी के स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिया है।
पंजाब सरकार ने शिफ्टिंग के लिए वाहन का बंदोबस्त करते समय अंसारी की मेडिकल रिपोर्ट्स का भी ध्यान रखने का अनुरोध किया है। मुख्तार को उत्तर प्रदेश ले जाने के लिए रोपड़ जेल में भी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

विकास दुबे की घटना से दहशत में डॉन

जानकार सूत्रों का कहना है कि बाहुबली विधायक को सड़क के रास्ते ही उत्तर प्रदेश लाया जाएगा। यह जानकारी मिलने के बाद माफिया डॉन काफी परेशान बताया जा रहा है और उसे अपनी सुरक्षा की चिंता सता रही है। पिछले साल कानपुर के माफिया विकास दुबे को उज्जैन से उत्तर प्रदेश लाते समय एक बड़ी घटना हो गई थी।
गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे की ओर से फायरिंग की कोशिश के बाद मुठभेड़ में पुलिस ने माफिया को मार गिराया था। इस घटना को लेकर तमाम सवाल भी उठे थे और इसी कारण मुख्तार भी परेशान बताया जा रहा है।

लावारिस हालत में मिली एंबुलेंस

इस बीच वह चर्चित एंबुलेंस जिसमें मुख्तार को मोहाली की अदालत में पेश किया गया था, रोपड़-मनाली हाईवे पर लावारिस हालत में मिली है। इस एंबुलेंस के पंजीकरण में लगाए गए सारे दस्तावेज फर्जी पाए गए हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस इस मामले की जांच पड़ताल में जुटी हुई है और इस सिलसिले में पुलिस टीम ने आरोपी डॉ अलका राय समेत कई अन्य लोगों से भी पूछताछ की है। बाराबंकी के एसपी का कहना है कि इस मामले की जांच के बाद दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
दो साल से पंजाब जेल में बंद है मुख्तार
मुख्तार अंसारी को 21 जनवरी 2019 को मोहाली पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर उत्तर प्रदेश से मोहाली ले गई थी। मुख्तार के खिलाफ 8 जनवरी 2019 को मोहाली के एक बड़े बिल्डर ने 10 करोड़ की फिरौती मांगने का मामला दर्ज कराया था। 22 जनवरी 2019 को कोर्ट ने उसे एक दिन के रिमांड पर भेज दिया था।
बाद में 24 जनवरी को उसे न्यायिक हिरासत में रोपड़ जेल भेज दिया गया था। उसके बाद उत्तर प्रदेश की पुलिस आठ बार अंसारी को लेने के लिए पंजाब पहुंची मगर हर बार सेहत, सुरक्षा और कोरोना का कारण बताते हुए यूपी पुलिस को खाली हाथ लौटा दिया गया। अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मुख्तार की उत्तर प्रदेश वापसी का रास्ता साफ हुआ है।
Shivani

Shivani

Next Story