×

सदन की बैठक में गरमाया नगर निगम की जमीनों पर अवैध कब्जे का मामला

नगर निगम की जमीनों पर अवैध कब्जे को लेकर बैठक में जमकर हंगामा हुआ।

House Meeting
X

नगर निगम की आम बजट पर बैठक करते अधिकारी व पार्षद (फोटो साभार-सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

झांसी न्यूज: नगर निगम सदन की बैठक वैसे तो आज आम बजट पारित कराने के लिए बुलाई गई थी, लेकिन लेकिन नगर निगम की जमीनों पर अवैध कब्जे को लेकर इस बैठक में जमकर हंगामा हुआ। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जहां एक और पार्षदों ने नगर निगम महापौर अफसरों को इस मामले में घेरा तो वहीं दूसरी ओर कुछ पार्षद महापौर की ढाल बनकर सामने दिखाई दिए। नगर निगम की बैठक में बालाजी रोड स्थित आराजी नंबर 834 नगर निगम की 99 देसी मल यानी 1 एकड़ जमीन पर अवैध कब्जे का मामला उठा।

पार्षदों का आरोप है कि नगर निगम की उदासीनता के चलते नगर निगम की इस जमीन को लोगों ने बेच दिया है। इतना ही नहीं यह जमीन एक प्रभावशाली व्यक्ति के फार्म हाउस में भी शामिल होने की बात कही गई। इस पर जमकर शोर-शराबा हुआ। पार्षद इंदु वर्मा ने सदन में आरोप लगाया की नगर निगम की जमीनों पर 10 पार्षद पति कब्जा किए हैं। पार्षद जब बैठक में बोल रही थीं उसी समय पार्षद गोविंद शर्मा ने अपनी बात बीच में ही रखना शुरू कर दिया, इस पर गुस्से में आकर पार्षद इंदु वर्मा ने गोविंद शर्मा से माइक छुड़ा लिया। यह नजारा देखकर बैठक में मौजूद सभी सदस्य हतप्रभ रह गए।


इंदु वर्मा ने तीखे तेवर दिखाते हुए कहा कि उनके वार्ड की समस्याओं का समाधान नहीं किया जा रहा है, अगर समस्याओं का समाधान नहीं किया तो वह अपनी जान दे देंगीं।नगर निगम की बैठक में पार्षद प्रदीप नगरिया ने 1 वार्ड में 2 हैंड पंप लगाए जाने के मामले को उठाते हुए कहा कि सहमति बनने के बाद ही किसी भी वार्ड में हैंड पम्प नहीं लगाए गए हैं। नगर निगम की आय बढ़ाने पर सदन में चर्चा हुई लेकिन कोई ठोस नतीजा नहीं निकला।

पार्षदों ने आरोप लगाया कि नगर निगम का अतिक्रमण विरोधी दस्ता पटरी दुकानदारों को परेशान करता है। नगर निगम के मनोनीत पार्षद नरेंद्र नामदेव ने प्रेम नगर क्षेत्र की समस्याओं को प्रमुखता से उठाया। उन्होंने कहा कि प्रेम नगर को टापू मानकर नगर निगम न तो कोई कार्य करता है और न ही स्मार्ट सिटी के कोई कार्य कराए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गरिया फाटक से थाने तक 30 मीटर चौड़ी सड़क है, लेकिन इस सड़क के दोनों ओर अतिक्रमण है। गढ़िया गांव में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण कराया जा रहा है। ऐसी स्थिति में लोगों का वहां आवागमन बढ़ जाएगा। उन्होंने सड़क को मानक के अनुसार चौड़ी कराए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि गरिया फाटक का नाम गौरैया नगर सदन की बैठक में पास किया गया था। लेकिन इसका प्रचार-प्रसार नहीं कराया जा रहा है।

बैठक में सिकमी दुकानदारों का मामला भी उठाया गया। व्यापारी नेता संतोष साहू की नगर निगम अतिक्रमण विरोधी दस्ते द्वारा पिटाई का वीडियो वायरल होने का मामला भी सदन में उठाया गया। इस पर महापौर रामतीर्थ सिंघल का कहना था कि दोनों पक्षों की सुनने के बाद ही इस मामले की जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। नगर निगम की आराजी नंबर 834 जमीन पर कब्जे के मामले में नगर निगम के अफसर मौन रहे। बैठक की अध्यक्षता महापौर रामतीर्थ सिंघल ने की। सदन की बैठक में कन्हैया कपूर, मनोज सिंह, प्रदीप नगरिया इंदु, वर्मा नरेंद्र, नामदेव प्रियांशु डे, महेश गौतम सहित अनेक पार्षदों ने अपने अपने क्षेत्र की समस्याओं उठाई। नगर निगम की बैठक में अमृत योजना के तहत प्रत्यय जल योजना के तहत नगर में डाली जा रही पाइप लाइन का मामला भी उठाया गया।

पार्षदों का कहना था कि इस मामले में मुख्य सड़कों पर पाइप लाइन डाली जा रही है लेकिन गलियों में पाइपलाइन नहीं डाली जा रही है। पार्षदों ने मांग रखी की कि जहां समस्या है वहां के पार्षदों की जल निगम के अधिकारियों के साथ अलग से बैठक कराई जाए। पार्षदों के प्रश्नों का नगर आयुक्त ने उत्तर दिया। बैठक में नगर निगम की सभी बड़े अधिकारी मौजूद रहे। बैठक के अंत में बजट को मंजूरी दे दी गई।

Raghvendra Prasad Mishra

Raghvendra Prasad Mishra

Next Story