मकर संक्रांति पर भंडारा कर रहे लोगों से नगर निगम ने वसूला जुर्माना

वहीं जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी का कहना है कि स्वच्छता को लेकर बड़ी मुहिम चलाई जा रही है। इसमे लापरवाही बरतने वालो के खिताब कार्यवाई की जाएगी। जरूरी नही है कि भंडारे मे थर्माकोल की प्लेटों का इस्तेमाल किया जाए।

शाहजहांपुर: जहां एक तरफ डीएम के आदेश पर स्वच्छता को लेकर जिला प्रशासन ने पूरी ताकत झोंक दी है। वहीं धर्म के नाम पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को पलीता लगाया जा रहा है। भंडारे में थर्माकोल के पत्तलों का इस्तेमाल किया गया।

दरअसल मकर संक्रांति पर्व के मौके पर आज भंडारों का आयोजन बङे पैमाने पर किया जा रहा है। जिसमे भंडारा करने वाले लोग गरीबों को भर पेट खाना खिला रहे हैं।

ये भी पढ़ें— शादी समारोहों में हुक्का बार का लाइसेंस नहीं

भंडारे का ये नजारा थाना सदर बाजार के नैनीताल बैंक के पास का है। जहां प्रसिद्ध सर्राफा व्यापारी लाला काशीनाथ सेठ शोरूम के बाहर भंडारा कराया जा रहा था। जहां थर्माकोल की प्लेटो का इस्तेमाल किया जा रहा था। जबकि थर्माकोल और पाॅलिथीन पर प्रतिबंध लगा हुआ है। उसके बावजूद जमकर भंडारों मे प्रतिबंध लगी सामग्री का इस्तेमाल करने के बाद जब मामला जिलाधिकारी के पास पहुचा तो उन्होंने तत्काल भंडारा करने वाले लाला काशीनाथ ज्वैलर्स शोरूम के मालिक पर जुर्माना करने का आदेश नगर निगम की टीम को दिए।

ये भी पढ़ें— महात्मा गांधी ने अहिंसा का मूल मंत्र इस्लाम से लिया था : राहुल गांधी

उसके बाद भंडारा रूकवाने पहुचे नगर निगम की टीम के साथ भंडारा कर रहे ज्वैलर्स शोरूम के मालिक की तीखी नोकझोंक भी हुई। इतना ही नही टीम के साथ धक्कामुक्की भी की गई। हालांकि काफी विरोध के बाद नगर निगम की टीम ने भंडारा कर रहे लोगो के खिलाफ पांच हजार रुपये का जुर्माना वसूला और थर्माकोल की प्लेटो को जब्त कर लिया गया।

ये भी पढ़ें— कुंभ 2019 : प्रयागराज में संस्कृति का संगम,परंपरा और आधुनिकता का गवाह कुंभ मेला

वहीं जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी का कहना है कि स्वच्छता को लेकर बड़ी मुहिम चलाई जा रही है। इसमे लापरवाही बरतने वालो के खिताब कार्यवाई की जाएगी। जरूरी नही है कि भंडारे मे थर्माकोल की प्लेटों का इस्तेमाल किया जाए।