×

लखनऊ : राष्ट्रीय लोक अदालत में निपटे सत्ताईस हजार केस

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 10 Feb 2018 2:48 PM GMT

लखनऊ : राष्ट्रीय लोक अदालत में निपटे सत्ताईस हजार केस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : राष्ट्रीय लोक अदालत के तहत शनिवार को कुल 27 हजार 449 मुकदमों का अंतिम रुप से निपटारा हुआ। जिसमें कुल 21 करोड़ 97 लाख 20 हजार 740 रुपए की वसूली हुई। इनमें सिविल, पारिवारिक वाद, बैंक, चेक बाउसिंग, मोटर वाहन दुर्घटना व आपराधिक मुकदमों में अंतिम रिपोर्ट दाखिल होने और साथ ही आपसी सुलह-समझौते से खत्म होने वाले फौजदारी के मामले भी शामिल थे। प्रभारी जिला जज सुरेंद्र कुमार यादव एवं नोडल आफीसर एडीजे दिनेश सिंह पूरे समय लोक अदालत का निरीक्षण करते रहे।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव ज्ञान प्रकाश तिवारी के मुताबिक सिविल के 106 मामलों मंे पांच करोड़ 71 लाख 12 हजार 805 रुपए की धनराशि दिलाई गई। जबकि फौजदारी के 10015 मामलों में सात लाख 49 हजार 350 रुपए का अर्थदंड वसूला गया। मोटर वाहन दुर्घटना के 89 मामलों में तीन करोड़ 93 लाख 71 हजार का मुआवजा दिलाया गया। बैंक रिकवरी के 586 मामलों में छःह करोड़ 32 लाख 65 हजार 386 रुपए जबकि चेक बाउंसिंग के 920 मामलों मंे चार करोड़ 82 लाख 42 हजार 199 रुपए की रिकवरी हुई। इसी तरह पारिवारिक न्यायालय द्वारा 93 मामलों का निपटारा करते हुए 94 लाख 50 हजार रुपए का भरण-पोषण दिलाया गया। इसके अलावा राजस्व व चकबंदी के 15 हजार 640 मामलों का भी निपटारा इस लोक अदालत में हुआ। जिसकी समझौता धनराशि 15 लाख 30 हजार रुपए है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story