Top

UP ATS की गिरफ्त में आये फर्जी इंटरनेशनल कॉल सेंटर के दो मास्टरमाइंड, नोएडा से हुई गिरफ्तारी

यूपी एटीएस (UP ATS) ने सूबे के नोएडा इलाके से अवैध टेलीफोन एक्सचेंज संचालित कर रहे दो युवकों को गिरफ्तार किया है।

Sandeep Mishra

Sandeep MishraReport Sandeep MishraAshiki PatelPublished By Ashiki Patel

Published on 18 July 2021 3:50 PM GMT

masterminds of fake international call center
X

गिरफ्तार दोनों आरोपियों की फाइल फोटो (सौ. सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी एटीएस (UP ATS) ने सूबे के नोएडा इलाके से अवैध टेलीफोन एक्सचेंज संचालित कर रहे दो युवकों को गिरफ्तार किया है। ये दोनों युवक सिम बॉक्स से इंटरनेशनल कॉल करवाने वाले गैंग के सक्रिय सदस्य हैं।

यूपी एटीएस की गिरफ्त में आये अवैध इंटरनेट कॉलिंग गिरोह के इन दोनों सदस्यों के नाम- अभय मिश्रा उर्फ आदित्य व शम्स ताहिर खान उर्फ तुषार शर्मा हैं। एटीएस के सूत्रों ने बताया ये दोनों शख्स वीओआईपी कॉल्स को सामान्य कॉल में बदलने का काम करते थे। इन दोनों गिरफ्तार मास्टरमाइंड के पास से एटीएस को लैपटॉप, राउटर, डी-लिंक स्विच व टर्मिनेशन पोर्ट बरामद हुए हैं। एटीएस ने इन दोनों के खिलाफ इंडियन टेलीग्राफ एक्ट 66,66 डी सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2008 के अलावा अन्य कई धाराओं में नोयडा के नॉलेज पार्क थाने में केस दर्ज कराया है।

सूबे के नोयडा में फर्जी कॉल सेंटर के काले कारोबार की जड़े बेहद गहरी हैं। अभी लगभग दो माह पूर्व भी नोयडा पुलिस ने एक अवैध अंतर्राष्ट्रीय कॉल एक्सचेंज का खुलासा किया था, जिसमें तीन लोगों की गिरफ्तारी की गई थी। तब भी इन लोगों के पास से भारी संख्या में सिम कार्ड, सिम बॉक्स, सर्वर, लैपटॉप, सीपीयू नगदी आदि बरामद हुई थी।

एटीएस के सूत्र बताते हैं कि इस तरह गैंग देश विरोधी गतिविधियों मे लिप्त रहते हैं। अगर सूत्रों की मानें तो ये शातिर मास्टरमाइंड लोग अरब कंट्री से आने वाली कॉल्स को लोकल कॉल में बदल देते हैं। इस तरह से इस गिरोह के लोग भारत सरकार का प्रतिदिन लाखों रुपये के राजस्व का चूना लगा देते हैं। एटीएस के सूत्रों ने यह भी बताया कि अरब कंट्री से आने वाली वायस कॉल्स को ये शातिर माइंड लोग सिस्को के सर्वर व पी आर आई के जरिये लोकल कॉल में बदल देने की महारथ रखते हैं।सिम बॉक्स लगने के कारण मोबायल फोन की लोकेशन का भी पता नहीं लग पता है।

एटीएस के सूत्र बताते हैं कि ऐसे लोगों से देश की सुरक्षा को बहुत बड़ा खतरा रहता है। विदेश में रहने वाली कोई भी देश विरोधी ताकत अगर भारत मे किसी से भी सम्पर्क करती है तो वो कॉल ट्रेस नहीं हो पाती है। अब यूपी एटीएस की टीम गिरफ्तार दोनों लोगों से यह जानने का प्रयास करेगी कि भारत मे इन लोगों ने किस-किस शख्स से बात करवाई है और हमारे देश की सरकार को कितने रुपये के राजस्व का चूना लगाया है।

Ashiki

Ashiki

Next Story