×

आज से ही मेले में दिख रहा श्रद्धालुओं का रेला, करीब 60 लाख लोगों ने किया गंगा स्नान

मौनी अमावस्या में भारी भीड़ के आगमन का आंकलन प्रशासन ने पूर्व में ही कर लिया था। जिसके चलते मेले में भीड़ प्रबंधन के लिए काली सड़क और लाल सड़क के मध्य एक विशाल भूल भुलैया का निर्माण कराया गया है।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 3 Feb 2019 9:43 AM GMT

आज से ही मेले में दिख रहा श्रद्धालुओं का रेला, करीब 60 लाख लोगों ने किया गंगा स्नान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

आशीष पाण्डेय,

कुंभ नगर: मौनी अमावस्या पर सुरक्षा को लेकर प्रशासन ने भले ही चाक चौबंद व्यवस्था का बखान किया हो लेकिन मौनी अमावस्या के पूर्व शनिवार को आई भीड़ ने प्रशासन को सुरक्षा व्यवस्था का निरीक्षण करने पर विवश कर दिया। शनिवार को मेला क्षेत्र में भारी भीड़ देखने को मिली तो वहीं भीड़ के मेले में आने का सिलसिला रविवार को भी जारी रहा। चारों तरफ सिर पर गठरी मोठरी लादे कदम ताल कर मेले में रेंग रहे श्रद्धालुओं का रेला है।

मेले में जिधर भी नजर जाती है। केवल झुण्ड ही झुण्ड और लोगों के सिर ही दिखाई पड़ते हैं। मेले में गुजरात, मध्य प्रदेश, झारखण्ड, राजस्थान, मुम्बई और दिल्ली समेत अधिकांश राज्यों से लोग गंगा यमुना सरस्वती के आस्था के संगम में पुण्य की डुबकी लगाने को पहुंच रहे हैं। रविवार को भी मेले मे भारी भीड़ को देख मेला प्रशासन ने रविवार को पूर्वाहन 11 बजे तक लगभग 60 लाख लोगों के नहाने का अनुमान लगाया लेकिन यह भीड़ मेले में ठहर गई है।

ये भी पढ़ें— सोमवती अमावस्या पर दुर्लभ संयोग में देवताओं का रहेगा संगम में प्रवास

अधिकांश भीड़ मेले में आते ही दिखाई दी। श्रद्धालुओं ने गंगा में तो कहीं संग में डुबकी लगाई। संगम में स्नानार्थियों की भारी भीड़ रही। इस समय मेले में आ रही भीड़ को देख प्रशासन भी हरकत में आ गया है। मेलाधिकारी विजय किरन आनंद तो रविवार को दिन के 11 बजे तक 60 लाख श्रद्धालुओं के स्नान कर लेने का डंका पीट रहे हैं हालांकि यह अनुमान लगभग ही हो सकता है क्योंकि भीड़ मौनी अमावस्या तक डेरा जमाने को दर और ठिकाना तलाश रही है।

कोई पुल के नीचे तो कोई सड़क पर जमा रहा डेरा

दिव्य कुंभ भव्य कुंभ में भले ही श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए रैन बसेरे बना दिए गए हैं लेकिन अभी भी भारी संख्या में श्रद्धालु रैन बसेरों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। जिसके चलते भारी संख्या में लोग शास्त्री पुल के नीचे बंधवा और मोरी मार्ग के बीच ही अपना डेरा जमाने को विवश हैं लेकिन वहां तैनात प्रशासनिक बल उन्हें रैन बसेरे का रूख अख्तियार करने को कोई दिशा निर्देश या डायरेक्शन देते नहीं दिखी। जिससे मौनी अमावस्या तक भीड़ का विहंगम दृश्य प्रशासन की नींद उड़ा सकता है।

ये भी पढ़ें— हेलीकाप्टर लैंडिंग की अनुमति नहीं मिलने पर योगी ने फोन से रैली की संबोधित

पीपा के पुल पर भी दिख रही थी भारी भीड़

मौनी अमावस्या के पूर्व मेले में शुरू हुआ श्रद्धालुओं और स्नानार्थियों का विहंगम दृश्य और सिर पर गठरी लिए पीपा के पुल पर रेंग रही भीड़ अमावस्या पर होने वाली विहंगम भीड़ की तरफ इशारा कर रही है। सभी जाने वाले पीपे के पुलों पर भारी भीड़ रही लेकिन मेले से निकलने वाले पुलों पर कोई खास भीड़ नहीं दिखी। जिसके चलते मेले में आने वाले श्रद्धालुओं का मौनी अमावस्या तक ठहराव का संकेत दे रहा है।

भीड़ को काबू करने के लिए मौनी अमावस्या पर होगा भूल भुलैया का प्रयोग

मौनी अमावस्या में भारी भीड़ के आगमन का आंकलन प्रशासन ने पूर्व में ही कर लिया था। जिसके चलते मेले में भीड़ प्रबंधन के लिए काली सड़क और लाल सड़क के मध्य एक विशाल भूल भुलैया का निर्माण कराया गया है। जिसमें काली सड़क की तरफ से भीड़ को प्रवेश देकर उसे उसी भूल भुलैया के माध्यम से संयमित और सुरक्षित कुंभ स्नान के लिए आगे की ओर ले जाया जाएगा।

ये भी पढ़ें— कुंभ: मौनी अमावस्या के एक दिन पहले से ही कई सड़कों को किया गया बंद

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story