Top

नेपाल सीमा पर गरीबों के बचपन में सेंध, पकड़े गए शराब के मासूम तस्कर

Sanjay Bhatnagar

Sanjay BhatnagarBy Sanjay Bhatnagar

Published on 30 July 2016 6:34 AM GMT

नेपाल सीमा पर गरीबों के बचपन में सेंध, पकड़े गए शराब के मासूम तस्कर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बहराइच: भारत-नेपाल के बीच शराब की तस्करी में मासूमों को कैरिअर बनाया जा रहा है। पुलिस ने घेराबंदी कर ऐसे नौ बच्चों को नेपाली शराब के पाउच और शीशियों के साथ पकड़ा है। पूछताछ में पता चला है कि सीमा पर सक्रिय तस्कर सिडिकेट ने इन मासूमों को महज सौ-डेढ़ सौ रुपयों का लालच देकर इस दलदल में उतार दिया है।

मासूम तस्कर

-भारत-नेपाल सीमा पर शराब की तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस अभियान चला रही है।

-पुलिस को सूचना मिली थी कि बस और ट्रेनों के माध्यम से नेपाली शराब की खेप भारतीय क्षेत्र के विभिन्न हिस्सों में पहुंच रही है।

-पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर रुपईडीहा के नेपालगंज रोड स्टेशन से बहराइच जाने वाली पैसेंजर ट्रेन की बोगियों में छापामारी की गई।

-थानाध्यक्ष छोटक यादव की अगुवाई में पुलिस टीम ने टॉयलेट और सीटों के नीचे से नौ बच्चों को पकड़ा।

liquor syndicate-innocent children

गरीबी का अभिशाप

-इनके पास बोरियों में भरी 139 शीशी नेपाली शराब और 5 पैकेट प्लास्टिक पॉलीथीन में भरी शराब बरामद हुई।

-पकड़े गए बच्चों की उम्र 8 से 14 वर्ष के बीच है, जो रुपईडीहा, नानपारा और बाबागंज क्षेत्रों के निवासी हैं।

-गरीब परिवारों के ये बच्चे महज 100-150 रुपये की लालच में सिंडीकेट के लिए काम करते हैं।

-शराब को सीज कर पकड़े गए सभी बच्चों को चाइल्ड लाइन के रुपईडीहा केंद्र को सौंप दिया गया है।

-काउंसलिंग के बाद बच्चों को न्यायालय में पेश करके अभिभावकों के सिपुर्द कर दिया जाएगा।

Sanjay Bhatnagar

Sanjay Bhatnagar

Writer is a bi-lingual journalist with experience of about three decades in print media before switching over to digital media. He is a political commentator and covered many political events in India and abroad.

Next Story