Top

एक लाख रुपए के लिए बहू को जिंदा जलाया, चार महीने पहले हुई थी शादी

Admin

AdminBy Admin

Published on 13 April 2016 7:04 AM GMT

एक लाख रुपए के लिए बहू को जिंदा जलाया, चार महीने पहले हुई थी शादी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेली: एक लाख रुपए की मांग पूरी न होने पर ससुराल वालों ने नवविवाहिता लक्ष्मी (26) को जिंदा फूंक दिया। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंचे मायके वालों को घर के अन्दर उसकी जली हुई लाश मिली। लक्ष्मी के पिता की शिकायत पर पति समेत पांच लोगों के खिलाफ दहेज हत्या की रिपोर्ट दर्ज की गई है। घटना के बाद पूरा ससुराल पक्ष गांव से फरार है।

क्‍या है पूरा मामला

-बहेड़ी के गांव पुनई के यादराम ने चार माह पहले हाफिजगंज के अहमदाबाद के प्रदीप से बेटी लक्ष्मी की शादी की थी।

-पिता यादराम ने बताया कि लक्ष्मी से ससुराल में लगातार एक लाख रुपए की मांग की जा रही थी।

-कई बार लक्ष्‍मी के साथ मारपीट भी की गई।

-हर बार पंचायत के बाद पति प्रदीप ने गलती स्वीकार की और रिश्तेदारों ने मामला रफा दफा कर दिया।

-यादराम ने बताया कि सोमवार रात किसी ने सूचना दी कि लक्ष्मी की हत्या कर दी गई है।

-बेसुध लक्ष्‍मी का परिवार अहमदाबाद पहुंचा।

-वहां घर के कमरे में जमीन पर बेटी का जला शव पड़ा था।

बेटी के जलने की खबर पर बिलखती मां बेटी के जलने की खबर पर बिलखती मां

क्‍या है एसओ का कहना

-सूचना पर हाफिजगंज एसओ धर्मेन्द्र सिंह गांव पहुंचे।

-पुलिस के अनुसार बहेड़ी के पुनई की लक्ष्मी व अहमदाबाद हाफिजगंज के प्रदीप की लव मैरिज हुई थी।

-ढाई साल के प्रेम संबंध के बाद प्रदीप और लक्ष्मी की जिद के आगे परिजनों ने दोनों की शादी कर दी।

-चार महीने पहले हुई शादी में दहेज दोनों के बीच दुश्मन बन गया।

-एक लाख की मांग को लेकर दोनों में झगड़ा होने लगा।

-आरोप है कि ससुराल वालों ने लक्ष्मी को कमरे में बंद करके आग लगा दी।

-तहरीर पर पति प्रदीप, देवर नंदराम, सास सुषमा, ससुर हरदयाल व चचिया ससुर रामेश्वर दयाल के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

-उन्‍होंने कहा कि आरोपी जल्द गिरफ्तार किए जाएंगे।

fsतमाशबीन भीड़ के सामने भस्म हो गई लक्ष्मी

-अगर तमाशबीन भीड़ हिम्मत दिखाती, तो शायद लक्ष्मी को बचाया जा सकता था।

-लक्ष्मी कमरे में आग की लपटों से घिरी हुई थी और घर के बाहर गांव वालों की भीड़ थी।

-पूरा गांव तमाशा देख रहा था और ससुराल वाले घर से फरार हो चुके थे।

-लक्ष्मी की कमरे से चीखें बाहर सुनाई दे रही थी।

-कुछ बुजुर्गों ने हिम्मत दिखाई और आग बुझाने के लिए लोगों को पुकारा।

-लेकिन देर होने के कारण लक्ष्मी की मौत हो चुकी थी। dsfsdfघटना के बाद फरार हैं ससुराल वाले

-पुलिस का कहना है कि जब पुलिस फोर्स गांव पहुंची, तो वहां लोगों की भीड़ थी।

-कमरे में महिला लक्ष्मी का शव जला हुआ पड़ा था व महिला के ससुराल वाले फरार थे।

-पुलिस ने लक्ष्मी के ससुराल वालों की तलाश के लिए कुछ प्रमुख रिश्तेदारियों के बारे में पता किया, लेकिन कोई हाथ नहीं आया।

पंच भी नहीं निपटा सके झगड़ा

-लक्ष्मी के पिता यादराम का कहना है कि चार महीने में ससुराल वालों ने दस बार उनकी बेटी को दहेज के लिए प्रताडि़त किया गया।

-बेटी के साथ मारपीट की गई, पर हर बार रिश्तेदारों ने पंचायत की।

-जब पुलिस केस की बात आती थी, तो पंच बीच में आकर सुलह करा देते थे।

-लेकिन प्रदीप के परिवार वालों ने पंचो की बात को भी नहीं माना।

-आखिरकार उनकी बेटी की जान ले ली गई।

fasf

Admin

Admin

Next Story