×

प्राधिकरण ने संस्थागत विभाग की प्रापर्टी को किया आनलाइन

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 1 Aug 2018 3:19 PM GMT

प्राधिकरण ने संस्थागत विभाग की प्रापर्टी को किया आनलाइन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नोएडा: अब तक मैनुअली अपनी प्रापर्टी को ट्रांसफर करने वाला नोएडा प्राधिकरण अब हाईटेक हो चला है। नोएडा प्राधिकरण अपनी प्रापर्टी को आनलाइन कर रहा है। इसकी शुरुआत बुधवार से की गई। पहले चरण में संस्थागत विभाग की प्रापर्टी को आनलाइन किया गया। इसके बाद सिर्फ एक बार आवंटी को प्राधिकरण के रिसेप्शन तक आना होगा। यहां रजिस्ट्रेशन के बाद उसे एक आरआईडी (रिफरेंस आईडी नंबर) दिया जाएगा। जिसके बाद यह घर बैठे ही अपनी फाइल की स्थिति देख सकेगा। साथ ही प्राधिकरण को भी आवंटी की पूरी जानकारी मिल जाएगी। इसके जरिए प्राधिकरण की कार्यप्रणाली में तेजी आएगी साथ ही पारदर्शिता बनेगी।

चार श्रेणियों में है प्रापर्टी

प्राधिकरण की संस्थागत, व्यवसायिक, औद्योगिक व आवासीय चार श्रेणी में प्रापर्टी हैं। आंवटियों को परेशानी न हो लिहाजा प्राधिकरण ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के तहत अपनी प्रापर्टी को आनलाइन कर रहा है। इससे कई फायदे होंगे। पहला दस्तावेज व आकड़े डिजिटल होने पर फाइलों के झाम से प्राधिकरण बच जाएगा। साथ ही जरूरत पड़ने पर आसानी से रिकार्ड खंगाला जा सकेगा। इसके साथ आवंटी को समस्या लेकर विभागीय चक्कर नहीं लगाने होंगे। यह एक सीधा प्रोसेस होगा। आवंटी को समस्या लेकर सिर्फ एक बार प्राधिकरण के रिसेप्शन पर जाना होगा। यहां अपनी प्रापर्टी की जानकारी बतानी होगी। यहां आनलाइन उसका रजिस्ट्रेशन कर दिया जाएगा। इसके बाद उसे एक आरआईडी नंबर दिया जाएगा। इसके साथ उसे फाइल नंबर भी दिया जाएगा। इन दोनों नंबरों के साथ वह आनलाइन प्रोसेस में लागिन कर सकेगा। इसके बाद वह अपनी फाइल की प्रगति जान सकेगा।

हर दिन होगा अपडेशन

दरसअल, समस्या जिस पर स्तर की होगी उस पर काम शुरू होने के साथ प्रत्येक दिन अपडेट किया जाएगा। यदि कोई कागज कम होंगे उसकी जानकारी भी आनलाइन मिल जाएगी। इसे आवंटी अपलोड भी कर सकेगा। काम पूरा होने के बाद वह इसे ऑनलाइन अपलोड कर प्रिंट भी निकाल सकेगा। अधिकारियों के मुताबिक पहले चरण में संस्थागत की सभी 1100 प्रापर्टी को आनलाइन कर दिया गया है। इसके बाद वाणिज्यिक, औद्योगिक व आवासीय प्रापर्टी को आनलाइन कर दिया जाएगा। इसका डाटाबेस तैयार किया जा रहा है।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story