Top

11 हजार cr. में बनेगी रिंग रोड, 3.5 घंटे में होगा दिल्ली-लखनऊ का सफर

दो एक्सप्रेस वे हाइवे बनाए जा रहे हैं, दोनों हाइवे यूपी से होकर जाएंगे। पहला दिल्ली का रिंग रोड, जिसका कुछ हिस्सा हरियाणा में भी होगा और दूसरा एनएच-24 है। ये स्वामीनारायण मंदिर से लेकर डासना तक एक्सिस कंट्रोल हाइवे बनेगा।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 9 Feb 2016 8:36 AM GMT

11 हजार cr. में बनेगी रिंग रोड, 3.5 घंटे में होगा दिल्ली-लखनऊ का सफर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: राजधानीवासियों के लिए ये अच्छी खबर है। अब जल्द ही दिल्ली से लखनऊ तक का सफर सिर्फ 3.5 घंटे में तय किया जा सकेगा। इसके लिए डासना से लेकर लखनऊ तक रिंग रोड बनाने की तैयार चल रही है। अब तक दिल्ली से लखनऊ तक की दूरी तय करने में 8 से 8.5 घंटे लगते थे। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि इसको बनाने में 11 हजार करोड़ की लागत आएगी।

नितिन गडकरी के साथ कार्यक्रम में मौजूद लक्ष्मीकांत बाजपेई व अन्य नितिन गडकरी के साथ कार्यक्रम में मौजूद लक्ष्मीकांत बाजपेई व अन्य

कानपुर से लखनऊ सिर्फ 30 मिनट में पहुंच सकेंगे

-नितिन गडकरी ने कहा कि कानपुर से लखनऊ के बीच काफी ट्रैफिक है।

-इसको देखते हुए 8 लेन का हाइवे बनाने का निर्णय लिया गया है।

-इसके बन जाने के बाद सिर्फ इसके बनने से आधे घंटे में कानपुर से लखनऊ पहुंचा जा सकेगा।

दिल्ली से मेरठ का सफर सिर्फ 40 मिनट में

-दो एक्सप्रेस वे हाइवे बनाए जा रहे हैं, दोनों हाइवे यूपी से होकर जाएंगे।

-पहला दिल्ली का रिंग रोड, जिसका कुछ हिस्सा हरियाणा में भी होगा और दूसरा एनएच—24 है।

-ये स्वामीनारायण मंदिर से लेकर डासना तक एक्सिस कंट्रोल हाइवे बनेगा।

-ये डासना से मेरठ तक ग्रीन एक्सप्रेस वे हाइवे होगा।

अब टोल प्लाजा पर नहीं रूकेंगे वाहन

-अब जल्द ही टोल प्लाजा पर वाहन रोकने की समस्या खत्म होगी।

-हर वाहन में आरएफआईडी टैग, जिसे फास्टैग भी कहते हैं लगा होगा।

-टोल प्लाजा से वाहन के गुजरने वर वहां लगी मशीन उसे स्कैन करेगी। उसी से पैसा कट जाएगा।

-इससे टोल प्लाजा में भुगतान को लेकर लगने वाली कतार से लोग बच सकेंगे।

-इस व्यवस्था के लागू होने से न केवल समय की बचत होगी, बल्कि ईंधन की भी बचत होगी।

Newstrack

Newstrack

Next Story