×

राजभर आज कैबिनेट बैठक में नहीं हुए शामिल, 24 फरवरी तक का दिया अल्टीमेटम

राजभर का कहना है कि अगर उनकी आरक्षण की मांग का बिल उत्तर प्रदेश सरकार 24 फरवरी तक पास नही करती है या इसपर कोई सुनवाई नहींहोती है तो वो भारतीय जनता पार्टी से अपने सारे रिश्ते खत्म कर पार्टी को तीन तलाक दे देंगे।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 29 Jan 2019 8:09 AM GMT

राजभर आज कैबिनेट बैठक में नहीं हुए शामिल, 24 फरवरी तक का दिया अल्टीमेटम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

वाराणसी: यहां पहुंचे राजभर ने प्रयागराज में होने वाली उत्तर प्रदेश की कैबिनेट बैठक को बॉयकॉट करने की बात कही। उनका कहना है कि वो कैबिनेट में शामिल नही होंगे।

गौरतलब है कि ये पहली ऐसी बैठक है जो प्रदेश की राजधानी लखनऊ से बाहर हो रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके मंत्री मंगलवार को प्रयागराज में ये बैठक करेंगे जिसमे की राजभर पिछड़ी जाति को 27% आरक्षण के बिल के पास न होने की नाराजगी के चलते शामिल नही होंगे। राजभर ने और भी कई मुद्दों पर केंद्र और राज्य सरमार को घेर है लेकिन कहा है कि वो पीछे हटने वालो में से नही हैं इसलिए हमेशा लड़ते रहेंगे।

ये भी पढ़ें— दहेज में दो लाख की मांग पूरी न होने पर नव विवाहिता की गला घोट कर की हत्याc

वाराणसी पहुंचे ओम प्रकाश राजभर ने जम कर केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा। पिछड़ी जातियों के लिए 27% आरक्षण की मांग करने वाले नेता ने ये बात साफ कर दी है कि उनकी बात न सुनी जाते के कारण ही वो प्रयागराज में हो रही कैबिनेट की बैठक में शामिल नही होंगे। इसके साथ ही राजभर ने भाजपा सरकार को 24 फरवरी का अल्टीमेटम भी दे डाला।

राजभर का कहना है कि अगर उनकी आरक्षण की मांग का बिल उत्तर प्रदेश सरकार 24 फरवरी तक पास नही करती है या इसपर कोई सुनवाई नहींहोती है तो वो भारतीय जनता पार्टी से अपने सारे रिश्ते खत्म कर पार्टी को तीन तलाक दे देंगे। इस बात पर की वो मंत्रिमंडल से इस्तीफा क्यों नही दे देते हैं राजभर्वक कहना है कि उनको जनता ने लड़ने के लिए भेजा है और वो भगोड़े नही हैं। वो अपने पूरी क्षमता से लड़ते रहेंगे।

ये भी पढ़ें— 24 घंटे में मंदिर वाले बयान पर सीएम योगी को पीएल पुनिया ने दी नसीहत

राजभर का कहना है कि सवर्णो को अगर आरक्षण देने के लिए इतनी जल्दी में फैसला लिया जा सकता है तो पिछड़ी जाति में भी कई गरीबी रेखा के नीचे हैं उनपर कोई कार्यवाही क्यों नही हो रही। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को घेरते हुए भी राजभर ने कहा कि अमित शाह ने वादा किया था चुनाव से पहले आरक्षण लाने का जिसे वो अपने स्वार्थ के लिए भूल चुके हैं।

अपनी नाराज़गी में सरकार का विरोध करने के साथ साथ राजभर कहीं न कहीं कांग्रेस का समर्थन भी करते नज़र आये। राजभर का कहना है कि राहुल गांधी को जोकर कहने वाली सरकार ने उनके जैसा काम क्यों नही कर के दिखाया। दबी आवाज़ में राहुल गाँधीबोर कांग्रेस की सरकार की तारीफ करते हेबराजभर ने कहा कि जब कांग्रेस थी तो 300 के करीब गैस की कीमत पहुंचने पर भारत बंद होता था लेकिन अब कहीं कुछ नही होता। राहुल गांधी को कहीं न कहीं सशक्त नेता की तरह उभरते हुए देखने की बात पर भी राजभर ने कांग्रेस के ही समर्थन में बोल बोले।

ये भी पढ़ें— राम मंदिर: केंद्र सरकार की ओर से SC में अर्जी दायर करने पर लोगों ने दी ऐसी प्रतिक्रियाएं

उनका कहना है कि जिसको भी प्रधानमंत्री की ज़िम्मेदारी देदी जाएगी और जिसके साथ भी जनता खड़ी हो जाएगी वो ज़िम्मेदार बन जाएगा। प्रधानमंत्री की कुर्सी पर पहुंच कर सब उस लायक हो जाते हैं। साथ ही राजभर ने रामदेव के संतों को भारत रत्न देने की बात पर भी सरकार को घेर। राजभर ने कहा कि भारत सरकार के सबसे ज़्यादा करीबी तो खुद रामदेव हैB इसलिए सबसे पहले उन्हें भारत रत्न मिलना चाहिए। संतों को भारत रत्न देने चाहिए न नही इसपर बोलते हुए राजभर ने कहा भारत के हर नागरिक को भारत रत्न दे देना चाहिए।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story