Top

श्रमजीवी एक्स. धमाका मामले में एक दोषी करार, दूसरे पर फैसला टला

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 July 2016 8:00 PM GMT

श्रमजीवी एक्स. धमाका मामले में एक दोषी करार, दूसरे पर फैसला टला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जौनपुरः साल 2005 की 28 जुलाई को श्रमजीवी एक्सप्रेस ट्रेन के जनरल कोच में हुए बम धमाका मामले में रॉनी नाम के एक आरोपी को एडीजे प्रथम बुधिराम के कोर्ट ने शुक्रवार को दोषी ठहराया। 11 साल बाद आए फैसले में दूसरे आरोपी उबैदुर्रहमान पर फैसला टाल दिया गया। उस पर अदालत 2 अगस्त को फैसला सुनाएगी। जिस आरोपी को दोषी ठहराया गया है, उसे 30 जुलाई को सजा सुनाई जाएगी।

इस मामले में दो और आरोपी हिलाल और नफीकुल विश्वास हत्या के एक मामले में 17 नवंबर 2005 को गिरफ्तार किए गए थे। तभी से वे हैदराबाद जेल में हैं। जहां उस मामले की सुनवाई चल रही है। बता दें कि श्रमजीवी एक्सप्रेस धमाके में 12 लोग मारे गए थे और 18 अन्य घायल हुए थे।

जीआरपी के दो गवाहों, कॉन्सटेबल सुरेश यादव और श्यामजी ने धमाके वाले दिन वाराणसी कैंट स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 9 पर रॉनी और हिलाल को क्षतिग्रस्त कोच में घबराए हुए झांकते देखा था। दोनों गवाहों ने इन्हें कोर्ट में पहचान लिया। कुछ और घायल हुए लोगों ने भी इन्हीं से मिलते-जुलते लोगों को देखने की बात कोर्ट में कही थी।

इस धमाके का मास्टरमाइंड कंचन उर्फ शरीफ पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। एक अन्य आरोपी याह्या उर्फ गुलाम पजदानी मुठभेड़ में मारा जा चुका है। आरोपी डॉक्टर सईद के नाम-पते की जांच अभी तक पूरी नहीं हो सकी है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story