×

एक करोड़ की रिश्वत डील: IG STF पहुंचे सफाई देने, अफसर साख बचाने में जुटे

aman

amanBy aman

Published on 20 Sep 2017 9:51 AM GMT

एक करोड़ की रिश्वत डील: IG STF पहुंचे सफाई देने, अफसर साख बचाने में जुटे
X
एक करोड़ की रिश्वत डील: IG STF पहुंचे सफाई देने, अफसर साख बचाने में जुटे
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: नाभा जेल ब्रेक कांड के आरोपी आतंकियों को बचाने के लिए एक करोड़ की रिश्वत डील का आरोप झेल रहे आईजी ने खुद को निर्दोष बताया है। प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार से मुलाक़ात करने पहुंचे पुलिस महानिरीक्षक स्पेशल टास्क फ़ोर्स अमिताभ यश ने कहा, कि मेरे ऊपर लगे आरोप गलत हैं।

इससे पहले यूपी पुलिस के मुखिया सुलखान सिंह ने कहा था, कि 'इस पूरे मामले की जांच एडीजी क़ानून व्यवस्था को सौंपी गई है। जब तक जांच नहीं पूरी होती आरोपी आईजी को नहीं हटाया जाएगा।'

ये भी पढ़ें ...यूपी में जेल अधीक्षक पर मंत्री को रिश्वत देने का आरोप, मामला दर्ज

आरोपी आईजी एसटीएफ ने खुद को बताया निर्दोष

यूपी पुलिस के आरोपी आईजी एसटीएफ अमिताभ यश खुद अपनी सफाई पेश करने के लिए प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार के यहां पहुंच गए हैं। प्रमुख सचिव गृह से मुलाक़ात से पहले आईजी एसटीएफ अमिताभ यश ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए खुद को निर्दोष बताया। कहा, कि 'मेरे ऊपर जो भी आरोप लग रहे हैं वो गलत हैं।' इस दौरान साज़िश के सवाल पर अमिताभ यश मीडिया से ही उलटा सवाल करते नज़र आए कि किस चीज़ की साज़िश।

ये भी पढ़ें ...UP: बाराबंकी के जेल अधीक्षक पर कारागार मंत्री को घूस देने का केस दर्ज

एडीजी क़ानून व्यवस्था को मिला जांच का ज़िम्मा

इससे पहले प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार और पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह ने इस पूरे मामले पर सीएम से मुलाक़ात कर संबंधित तथ्य पेश किए। पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह ने कहा, कि 'पूरा मामला सीएम के संज्ञान में है। इस मामले की जांच अपर पुलिस महानिदेशक क़ानून-व्यवस्था आनन्द कुमार को सौंपी गई है।'

यहां पर यह भी बता देना आवश्यक है कि आईजी एसटीएफ अमिताभ यश पर एक करोड़ में डील करने का आरोप लगा है और आनन्द कुमार एडीजी क़ानून व्यवस्था के साथ-साथ एडीजी एसटीएफ भी हैं।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर ...

एसटीएफ ने प्रेस नोट जारी कर दी सफाई

यूपी एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश पर आतंकियों को बचाने के लिए एक करोड़ की रिश्वत डील का आरोप लगने के बाद आईपीएस अफसरों के साथ ही एसटीएफ में भी खलबली मची है। एसटीएफ की तरफ से प्रेस नोट जारी कर सफाई पेश की गई है। आईजी एसटीएफ पर 2 लाख के इनामी गुरुप्रीत सिंह उर्फ़ गोपी घनश्यामपुरा को 1 करोड़ की रिश्वत लेकर छोड़ने की खबर पंजाब के अखबारों में छपी है। एसटीएफ ने कहा है कि इस नाम के किसी भी आतंकी को एसटीएफ की किसी भी यूनिट या टीम ने नहीं पकड़ा है। प्रेस नोट में कहा गया है कि एसटीएफ की साख पर चोट पहुंचाने के लिए इस तरह की भ्रामक और सत्य से परे समाचार प्रकाशित किये गए हैं।

ये भी पढ़ें ...MP के थानों में क्यों लगे है ‘कोई रिश्वत मांगे तो करें SP को फोन’ के बोर्ड?

आरोप सही हुए तो होगी कार्रवाई

आईजी एसटीएफ अमिताभ यश पर लग रहे आरोप अगर जांच में सही साबित हुए तो निलंबन की कार्रवाई तय मानी जा रही है। इस मामले को गरमाते देख आईपीएस एसोसिएशन ने भी इसे गंभीरता से लिया है। एसोसिएशन का कहना है कि मामले के देखते हुए जो भी आवश्यक कदम उठाने होंगे, उठाए जाएंगे।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story