×

मुरादाबाद DRM ऑफिस में CBI का छापा, घूस लेते दो अधिकारियों को किया अरेस्ट

aman

amanBy aman

Published on 23 Aug 2016 4:10 PM GMT

मुरादाबाद DRM ऑफिस में CBI का छापा, घूस लेते दो अधिकारियों को किया अरेस्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मुरादाबाद : सूचना है कि रेलवे के डीआरएम ऑफिस के प्रवर मंडल वित्त प्रबंधक डॉ. पंकज कुमार और सेक्शन ऑफिसर आर के वाल्दिया को सीबीआई की टीम ने छापा मारकर एक लाख रुपए घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। सीबीआई की टीम घंटों बंद कमरे में वित्त प्रबंधक से पूछताछ की। सीबीआई की छापेमारी से रेलवे के डीआरएम ऑफिस में हड़कंप मच गया।

ठेकेदार से मांगी थी रिश्वत

बताया जा रहा है कि दो दर्जन से ज्यादा पुलिसकर्मियों के साथ टीम ने छापेमारी की। रेलवे के अकाउंट सेक्शन के वित्त प्रबंधक पर आरोप है कि उन्होंने रेलवे की ओर से पेड़ लगाए जाने में चेक पास करने को लेकर ठेकेदार से 1 लाख 46 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी।

drm

ठेकेदार ने सीबीआई से की थी शिकायत

सोनू नाम के ठेकेदार पर इनके द्वारा ठेका देने की एवज में काफी दिनों से रिश्वत की मांग की जा रही थी। जिससे ठेकेदार काफी परेशान हो रहा था। परेशान ठेकेदार ने सीबीआई गाजियाबाद कार्यालय को जानकारी दी।

police

रंगे हाथों किया गिरफ्तार

शिकायत मिलने के बाद टीम मंगलवार को मुरादाबाद रेलवे कार्यालय पहुंची और एक लाख रुपए की रिश्वत लेते वित्त प्रबंधक डॉ. पंकज कुमार और सेक्शन ऑफिसर आर के वाल्दिया को गिरफ्तार कर लिया। सीबीआई उनसे घंटों पूछताछ करती रही। बताया जाता है कि टीम के कुछ सदस्य रेलवे वित्त प्रबंधक के घर जानकारी जुटाने के लिए भी गए।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story