Top

कोरोना का कहर: UP में 17 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, जानिए क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

यूपी में 10 मई तक लॉकडाउन खत्म होना था, लेकिन उससे पहले ही आज फिर से सरकार ने 17 मई तक के लिए लॉकडाउन बढ़ा दिया है।

Shreedhar Agnihotri

Shreedhar AgnihotriWritten By Shreedhar AgnihotriMonikaPublished By Monika

Published on 9 May 2021 5:50 AM GMT

Lockdown Extended in UP
X

यूपी में लॉकडाउन के बाद लखनऊ में सड़कों पर सन्नाटा (फोटो: सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: देश के कई राज्यों कोरोना संक्रमण (coronavirus) को बढ़ने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) से इसके प्रभाव में कमी दिखने के बाद उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) सरकार इसे बढ़ा दिया है। 10 मई से ख़त्म हो रही इसकी मियाद को एक सप्ताह के लिए और बढ़ाकर 17 मई तक कर दिया गया है।

बता दें कि कोरोना वायरस (coronavirus) से निपटने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन (lockdown) और नाइट कर्फ्यू (night curfew) का सहारा लिया जा रहा है। यूपी, महाराष्ट्र (Maharashtra) , बिहार (Bihar), राजस्थान (Rajasthan), दिल्ली (Delhi) समेत कई राज्यों ने लॉकडाउन की मियाद को लगातार बढ़ने का काम किया है। राजस्थान सरकार ने भी कोरोना महामारी रोकने के लिए 10 से 24 मई तक लॉकडाउन की अवधी को बढ़ा दिया है। दिल्ली में 19 अप्रैल से 10 मई तक लॉकडाउन लगाया गया था जिसके बढ़ाकर अब 17 मई तक कर दिया गय है। छतीसगढ़ में एक बार फिर लॉकडाउन 15 मई तक बढ़ाया गया है। नागालैंड में 14 मई तक, बिहार, महाराष्ट्र में 15 मई तक और ओडिशा में 19 मई तक इसे बढ़ाया गया है।

जहां तक यूपी की बात है तो हाल ही में कुछ रियायतों की घोषणा की गई हैं। इससे लकडाउन बढ़ने की संभावनाएं और बढ़ गई हैं। राज्य सरकार ने कहा है कि औद्योगिक गतिविधियों को छूट यानी आप किसी कंपनी या फैक्ट्री में काम करते हैं तो आई-कार्ड दिखाकर आ-जा सकते हैं। मेडिकल और जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति से जुड़े ट्रांसपोर्टेशन को भी छूट दी गई है। डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टॉफ, अस्पताल के अन्य कर्मचारी, मेडिकल दुकान और व्यवसाय से जुड़े लोग। ई-कॉमर्स ऑपरेशंस यानी आप ऑनलाइन पोर्टल के जरिए मिले जरूरी सामान के ऑर्डर डिलीवर कर सकते हैं। इसके अलावा मेडिकल इमरजेंसी, दूरसंचार सेवा, डाक सेवा, प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, इंटरनेट मीडिया से जुड़े कर्मचारियों को ई-पास बनवाने की जरूरत नहीं है। वे अपने संस्थान का आई-कार्ड दिखाकर आ जा सकते हैं।



Monika

Monika

Next Story