Top

राम गोविंद चौधरी का बड़ा बयान, योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश को किया गिद्धों के हवाले

उत्तर प्रदेश विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी ने आज योगी सरकार पर करारा प्रहार करते हुए आरोप लगाया है।

Anoop Hemkar

Anoop HemkarReporter Anoop HemkarShraddhaPublished By Shraddha

Published on 20 April 2021 1:32 PM GMT

नेता राम गोविंद चौधरी ने योगी सरकार पर किया करारा प्रहार
X

नेता राम गोविंद चौधरी फाइल फोटो (सौजन्य से सोशल मीडिया )

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बलिया : उत्तर प्रदेश विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी( Ram Govind Chaudhary) ने आज योगी सरकार (Yogi government) पर करारा प्रहार करते हुए आरोप लगाया है कि योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश (uttar pradesh) को गिद्धों के हवाले कर दिया है। उन्होंने मास्क को लेकर दस हजार रुपये जुर्माना के फैसले को अंग्रेजी राज की याद दिलाने वाला करार देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) से इस फैसले को तुरंत वापस लेने की मांग की है।

विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता चौधरी ने आज एक वक्तव्य जारी कर आरोप लगाया है कि योगी सरकार (Yogi government) ने उत्तर प्रदेश (uttar pradesh) को गिद्धों के हवाले कर दिया है। उन्होंने कहा कि गिद्ध आम आदमी को अपने अपने हिसाब से नोच रहे हैं। कहीं मास्क ( mask) को लेकर दस हजार रुपए का जुर्माना लगाकर तो कहीं जरूरी सामानों को ब्लैक करके। उन्होंने कहा कि दस हजार रुपए का जुर्माना अंग्रेजी राज की याद दिलाने वाला है। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि उनकी नज़र में मास्क को लेकर दस हजार रुपए का जुर्माना लूट नहीं, डकैती है।

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ मास्क पर जुर्माने को वापस लें

उन्होंने मांग की है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने इस फैसले को तुरन्त वापस लें। उन्होंने इसके साथ ही कहा है कि जिस दल के प्रधानमंत्री, गृहमंत्री व मुख्यमंत्री बिना मास्क लगाए चुनावी रैली को सम्बोधित किए हैं व खुद भी बिना मास्क लगाए मंच सुशोभित किए हैं, उस दल की सरकार को मास्क को लेकर आम आदमी पर जुर्माना लगाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ फाइल फोटो (सौजन्य से सोसिल मीडिया )

सरकारी अस्पतालों में सामान्य रोगों का इलाज बंद

उन्होंने आरोप लगाया है कि सूबे में योगी सरकार केवल बयानों तक सीमित रह गई है। उन्होंने कहा है कि उत्तर प्रदेश में आम आदमी का कोई पुरसाहाल नहीं है। सरकारी अस्पताल इस समय सामान्य रोगों का भी इलाज बन्द कर दिए हैं। लोग मरीज को लेकर दर दर भटक रहे हैं। कोविड संक्रमित के लिए आम लोगों को भारी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि लोगों की इस मजबूरी का असामाजिक तत्व नाजायज लाभ उठा रहे हैं। जरूरी दवाएं बाजार से गायब हो गई हैं। लोग मर रहे हैं। चारो तरफ केवल शोक की आवाज गूंज रही है। मरघट पर लकड़ी का रेट मनमाना हो गया है। अन्य जरूरी चीजों के दाम भी अचानक और अधिक बढ़ गए हैं ।

ऐसे विकट समय में भाजपा की सरकारें आम आदमी को बचाने की जगह चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों को विजयी बनाने में लगी हुई है। उन्होंने इसके साथ ही जोड़ा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने नैतिकता की सभी हदें पार कर दी है। ये लोग भाजपा के प्रचार मंत्री के रूप में काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा है कि यह समय राजनीति व चुनाव हारने जीतने का नहीं है। यह समय आपदा का मुकाबला करने व लोगों का जीवन बचाने का है । उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपील किया है कि वह इस आपदा के काल में भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री के रूप में काम करने की जगह पूरे प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में काम करें। यही काम प्रधानमंत्री और गृहमंत्री भी करें, ताकि कोरोना का मुकाबला करने में सफलता मिल सके ।

Shraddha

Shraddha

Next Story