Top

जानिए कौन कराता है IAS-11 और CM-11 मैच, कौन उठाता है करोड़ों का खर्च ?

Admin

AdminBy Admin

Published on 19 March 2016 4:21 PM GMT

जानिए कौन कराता है IAS-11 और CM-11 मैच, कौन उठाता है करोड़ों का खर्च ?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: सपा सरकार बनने के बाद से ही यूपी में आईएएस वीक की शुरुआत हुई थी। साथ ही शुरू हुआ आईएएस अफसरों और सरकार के बीच मैत्री पूर्ण क्रिकेट मैच का सिलसिला। पिछले दो सालों से यह मैच यूपीएसआईडीसी ऑर्गनाइज करा रहा है। इस बार भी आईएएस अधिकारियों और सरकार के बीच खेले जाने वाला यह मैच एमडी यूपीएसआईडीसी मनोज कुमार सिंह और राहत आयुक्त अनिल कुमार तृतीय ऑर्गनाइज करा रहे हैं।

किसानों को 'राहत' की जगह सरकारी आवभगत

बुंदेलखंड में पिछले दो सालों से ओलावृष्टि और सूखे से किसान बेहाल हैं। राहत आयुक्त से उन्हें कितनी राहत मिली है यह जनता के सामने है। हालात यह है कि रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए नौजवानों को घर छोड़ने को मजबूर होना पड़ रहा है। इसके उलट, राहत आयुक्त आईएएस एकादश और सीएम एकादश के मैच का आयोजन करा रहे हैं। सरकारी नुमाइंदों की आवभगत में लगे हैं।

पिछले साल क्रिकेट मैच में खर्च हुए थे पांच करोड़

-यूपीएसआईडीसी ने ही पिछले साल भी आईएएस अफसरों और सरकार के बीच क्रिकेट मैच ऑर्गनाइज कराया था।

-विभागीय सूत्रों की मानें तो इसमें लगभग चार करोड़ के खर्च का अनुमान लगाया गया था।

-लेकिन क्रिकेट मैच के आयोजन पर पूरा खर्च लगभग पांच करोड़ आया था।

इस बार 5 करोड़ से ज्यादा खर्च होने के आसार

-इस बार भी मैच यूपीएसआईडीसी और राहत आयुक्त मिलकर आर्गनाइज करा रहे हैं।

-विभागीय सूत्रों की मानें तो इसमें एमडी यूपीएसआईडीसी ने अधिकारियों को इस मैच को कराने का निर्देश दिया है।

-इस मैच के आयोजन में भी पांच करोड़ खर्च का अनुमान लगाया जा रहा है।

-बताया जा रहा है कि इसमें विधायकों, अफसरों के खाने-पीने से लेकर रहने, गाड़ियों के खर्चे तक का भुगतान यूपीएसआईडीसी को ही करना होगा।

cricket-2

मैच के लिए ये हैं इंतजाम

-खिलाड़ियों के लिए किट की व्यवस्था, जिसमें अफसर और विधायक सब शामिल हैं।

-ग्रांउड पर बिजली की व्यवस्था, जहां गर्मी से बचने के लिए कूलिंग की व्यवस्था की गई है।

-ग्रांउड पर टेंट लगे हैं। खाने-पीने से लेकर, अफसरों और जनप्रतिनिधियों के लिए अलग-अलग व्यवस्था।

-वीवीआईपी लोगों के लिए अलग व्यवस्था।

-होटल ताज से खाने-पीने से लेकर नाश्ते का प्रबंध।

-ट्रैवेलिंग के लिए प्राइवेट गाड़ियों की व्यवस्था।

-जनप्रतिनिधियों और अतिथियों को राजधानी में ठहरने की व्यवस्था।

-ग्राउंड में एलसीडी लगवाई गई है।

-लामार्टिनियर ग्राउंड में पिच तैयार करने का खर्च।

-सांउड सिस्टम के अलावा, स्कोर बोर्ड का खर्च।

Admin

Admin

Next Story