Top

कोरोना मरीजों की दूर होगी परेशानी, सहारनपुर में शुरू हुआ ऑक्सीजन प्लांट

लगातार बढ़ रही कोरोना महामारी के कारण देश के कई शहरों में ऑक्सीजन की किल्लत हो गई है। कोरोना की बीमारी फैलने और ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ने के बीच सहारनपुर के लोगों के लिए एक अच्छी खबर आई है।

Neena Jain

Neena JainReporter Neena JainMonikaPublished By Monika

Published on 23 April 2021 3:56 PM GMT

कोरोना मरीजों की दूर होगी परेशानी, सहारनपुर में शुरू हुआ ऑक्सीजन प्लांट
X

ऑक्सीजन प्लांट (फाइल फोटो )

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर: लगातार बढ़ रही कोरोना महामारी (Coronavirus ) के कारण देश के कई शहरों में ऑक्सीजन (Oxygen) की किल्लत हो गई है। कोरोना की बीमारी फैलने और ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ने के बीच सहारनपुर (Saharanpur) के लोगों के लिए एक अच्छी खबर आई है। अंबाला रोड के पिलखनी स्थित शेखुल हिंद मौलाना महमूद-उल-हसन मेडिकल कॉलेज में आक्सीजन प्लांट लगाया गया। ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen plant) चालू हो जाने पर कोरोना प्रभावितों को राहत मिलेगी। समय पर आक्सीजन उपलब्ध होने से कोरोना पेशंट्स की जान बचाई जा सकेगी।

महमूद-उल-हसन मेडिकल कॉलेज में लगाया गया आक्सीजन प्लांट

गौरतलब है कि देश में आई कोरोना की दूसरी लहर बेहद खतरनाक है और नौजवानों तक को अपनी चपेट में ले रही है। जनपद में हर रोज दो से तीन लोगों की मौत कोरोना से हो रही है। कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए प्रशासन ने ठोस कदम उठाया है।

जिलाधिकारी अखिलेश सिंह

1 किलो लीटर टैंक से आपूर्ति

जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने बताया कि राजकीय मेडिकल कॉलेज डेडीकेटेड कॉविड हॉस्पिटल है वहां पर हम लोगों ने 300 बेड मैं से 60 बेड आईसीयू के बेड है इस समय ऑक्सीजन की खपत वहां पर बढ़ गई है। ऑक्सीजन का एक टैंक स्थापित किया है उस टैंक से अब हम लोग वहां पर ऑक्सीजन सप्लाई करने का प्रयास कर रहे हैं। आज शाम से इस टैंक से जो ऑक्सीजन की आपूर्ति है उसको हम लोग प्रारंभ करा देंगे। इसको करने से करीब 260 सिलेंडर ऑक्सीजन की आपूर्ति करते हैं वो हम लोग 1 किलो लीटर टैंक से आपूर्ति करा लेंगे। इससे जो हमारे ऑक्सीजन सिलेंडर बचेंगे उसको हम दूसरी जगह जैसे शिफ्ट करा देंगे जैसे फतेहपुर है वहां पर भी 200 बेड की सुविधा है और इन सब सुविधाओं को बनाने में और जिससे हम ऑक्सीजन की बचत करेंगे उसमें हम इन ऑक्सीजन को उपयोग करेंगे।

Monika

Monika

Next Story