Top

नट समाज की पंचायत का फैसला, दारू पी तो जूते से मारेगी बीवी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 15 May 2016 12:43 AM GMT

नट समाज की पंचायत का फैसला, दारू पी तो जूते से मारेगी बीवी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोईः नट बजानिया समाज ने अपने समाज के पुरुषों को शराब से दूर करने के लिए अनोखा फैसला किया है। समाज की पंचायत ने तय किया है कि अगर कोई पुरुष शराब पीता मिला, तो उसकी पत्नी सबके सामने उसे पांच जूते मारेगी। ऐसे शख्स पर जुर्माना भी लगाया जाएगा।

पुरवा देवरिया गांव से हुई शुरुआत

-हरदोई के टड़ियावां विकासखंड के पुरवा देवरिया में रहते हैं नट।

-गांव में नट बजानिया समुदाय के 500 लोग रहते हैं।

-अनुसूचित जाति के बजानिया शादी में बैंड बजाते हैं।

-इस समुदाय के लोग राजस्थान में भी रहते हैं।

-इस समुदाय के पुरुष खूब शराब पीते हैं।

गांव में शराबबंदी का एलान करतीं समुदाय की महिलाएं गांव में शराबबंदी का एलान करतीं समुदाय की महिलाएं

कुलदेवता का है गांव

-नट बजानिया के पुरवा देवरिया गांव में इनके कुलदेवता का मंदिर है।

-कुलदेवता का नाम दादा चतुर्भुज है।

-दादा चतुर्भुज की शक्तियों पर नट बजानिया करते हैं भरोसा।

-हर तीन साल में देशभर से समुदाय के लोग यहां पूजा करने आते हैं।

नट बजानिया समुदाय के पुरुष शराब न पीने की शपथ लेते हुए नट बजानिया समुदाय के पुरुष शराब न पीने की शपथ लेते हुए

कुलदेवता को चढ़ाते थे शराब

-अभी तक नट बजानिया अपने कुलदेवता को प्रसाद में शराब चढ़ाते थे।

-समाज की महिलाओं-बच्चियों पर शराब पीकर जुल्म करते थे लोग।

-गांव के बुजुर्गों ने इसी वजह से शराब पीने पर रोक लगाने का फैसला किया।

-कुलदेवता को भी अब शराब नहीं चढ़ाएंगे नट बजानिया।

-दादा चतुर्भुज के सामने शराब छोड़ने की शपथ ली।

शराबबंदी के एलान के लिए महिलाओं ने गांव में डुगडुगी पिटवाई शराबबंदी के एलान के लिए महिलाओं ने गांव में डुगडुगी पिटवाई

शराबियों से कैसा होगा सुलूक?

-शराबी को उसकी पत्नी पंचायत के सामने पांच जूते मारेगी।

-शराब पीने पर 20 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया जाएगा।

-किसी शराबी को पकड़वाने पर 500 रुपए इनाम देने का एलान।

-शराबबंदी लागू कराने के लिए 35 लोगों की कमेटी बनाई।

समुदाय के देवता का मंदिर समुदाय के देवता का मंदिर

समाज की बेटी ने उठाया बीड़ा

-नट बजानिया समाज की सरिता भारत ने उठाया शराबबंदी का बीड़ा।

-राजस्थान में सामाजिक कार्य करती हैं सरिता भारत।

-गांव के युवकों और बुजुर्गों को शराबबंदी के लिए मनाया।

-सरिता के प्रयास से गांव की महिलाएं भी मुहिम से जुड़ीं।

-गांव के युवकों ने शराब न पीने की कसम खाई है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story