×

UP Election 2022: बसपा ने एक ब्राह्मण व 4 पिछड़ा वर्ग के प्रत्याशियों को उतारा चुनावी मैदान में, 7 में से 5 पर प्रत्याशी घोषित

UP Election 2022: बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने बुलंदशहर (Bulandshahr Assembly Constituency) की स्याना विधानसभा सीट पर ब्राह्मण प्रत्याशी सुनील भारद्वाज को चुनाव मैदान में उतारा है।

Sandip Tayal

Report Sandip TayalPublished By Divyanshu Rao

Published on 14 Jan 2022 12:08 PM GMT

BSP Bulandshahr Assembly Constituency
X

मायावती (Photo - Twitter)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

UP Election 2022: बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों को लेकर बुलंदशहर की 7 में से 5 विधान सभा सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं। स्याना (Syana Assembly Constituency) सीट पर ब्राह्मण प्रत्याशी को मैदान में उतारा है, जबकि शेष घोषित चारों सीटों पर पिछड़ा वर्ग के प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे हैं।

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने बुलंदशहर (Bulandshahr Assembly Constituency) की स्याना विधानसभा सीट पर ब्राह्मण प्रत्याशी सुनील भारद्वाज को चुनाव मैदान में उतारा है, जबकि सिकंद्राबाद विधानसभा सीट से मनवीर भाटी, खुर्जा विधानसभा सीट से विनोद प्रधान, डिबाई विधानसभा सीट से करण पाल लोधी, शिकारपुर विधानसभा सीट से रामेश्वर लोधी को चुनाव मैदान में उतारा है।

अभी तक घोषित प्रत्याशियों में सुनील भारद्वाज को छोड़ सभी प्रत्याशी पिछड़ा वर्ग से जुड़े हैं और बसपा ने पिछड़े वर्ग को विधानसभा पहुंचाने के लिए प्राथमिकता दे रही है। दरअसल आगामी विधानसभा चुनावों में बुलंदशहर में बसपा का गणित देखें तो इस बार होने वाले चुनावों में सोशल इंजीनियरिंग का फार्मूला बुलंदशहर में शायद नहीं अपनाया गया है।

मायावती की तस्वीर

अभी तक बसपा दलित, मुस्लिम व प्रत्याशी का जातिगत वोट बैंक के आधार पर प्रत्याशी को मैदान में उतार जीत दिलाने का काम करती थी, लेकिन इस बार बसपा प्रत्याशियों के पास बसपा के परंपरागत वोट बैंक के अलावा उसका जातिगत मतदाता ही दिख रहा है। हालांकि यह तो 3 मार्च को ही पता चल सकेगा कि आखिर कौन किसके साथ रहा। हालांकि अभी तक बुलंदशहर सदर और शिकारपुर विधानसभा सीट पर बसपा के प्रत्याशियों के नाम स्पष्ट नहीं हो सके हैं।

पूर्व प्रधान सुनील शर्मा की ब्राहम्मण मतदाताओं पर है मजबूत पकड़ स्याना विधानसभा सीट से बसपा के प्रत्याशी सुनील भारद्वाज 49 वर्ष के हैं और 12वीं पास हैं। कृषि और व्यापार उनके आय के स्रोत हैं। जबकि सुनील शर्मा अपने पैतृक गांव में ग्राम प्रधान रहे हैं। इलाके के ब्राह्मणों पर सुनील शर्मा की अच्छी पकड़ बताई जाती है।

जानिये अनूपशहर प्रत्याशी के बारे में

अनूपशहर विधानसभा क्षेत्र से बसपा ने रामेश्वर लोधी को प्रत्याशी घोषित किया है, वह 59 वर्ष के हैं और हाई स्कूल पास है। ट्रांसपोर्ट और कृषि उनके आय के स्रोत बताए जाते हैं। हालांकि 2017 में नगर पालिका परिषद का चुनाव लड़े थे, जिसमें उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था।

डिबाई में दिल्ली के रिटायर्ड एसीपी कर रहे हाथी की सवारी

लोध राजपूत बाहुल्य विधानसभा सीट डिबाई पर बसपा ने करण पाल लोधी को प्रत्याशी घोषित किया है, करणपाल लोधी एमएससी पास है, करण पाल सिंह लोधी दिल्ली के रिटायर्ड एसीपी है और पहली बार चुनाव मैदान में उतरे हैं। जहां भाजपा के वोटबैंक में सेंधमारी कर बसपा का परंपरागत वोट के साथ साथ अन्य जातियों के वोट पाने की जुगत में लगे है।

जानिये बसपा के ख़ुर्जा प्रत्याशी को

खुर्जा विधानसभा सीट से बहुजन समाज पार्टी ने विनोद प्रधान को प्रत्याशी घोषित किया है, जो लगभग 42 वर्ष के हैं और स्नातक हैं। बताया जाता है कि विनोद प्रधान गाजियाबाद जनपद के असालतनगर गांव के प्रधान हैं और इस बार विधानसभा का चुनाव लड़ने के लिए अपने पैतृक विधान सभा क्षेत्र से चुनावी अखाड़े में उतरे हैं।

जानिये सिकंद्राबाद के बसपा प्रत्याशी को

बसपा ने मुस्लिम बाहुल्य विधानसभा सीट सिकंद्राबाद से गुर्जर प्रत्याशी पर दांव खेला है और मनवीर भाटी को प्रत्याशी बनाया है, जो 45 वर्ष के हैं, कृषि उनकी आय का मुख्य स्रोत है, 2012 में चुनाव लड़ चुके हैं मगर जीत हासिल नहीं कर पाए , इस बार हाथी पर सवार है।

Divyanshu Rao

Divyanshu Rao

Next Story