Top

SN MEDICAL COLLEGE में दवा सप्लाई ठप, भटक रहे हैं गरीब मरीज

Sanjay Bhatnagar

Sanjay BhatnagarBy Sanjay Bhatnagar

Published on 26 May 2016 8:17 AM GMT

SN MEDICAL COLLEGE में दवा सप्लाई ठप, भटक रहे हैं गरीब मरीज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा: आगरा मंडल का सबसे बड़ा सरकारी हॉस्पिटल खुद बीमार हो गया है। मरीज दवाएं न मिलने से बेहाल हैं, और हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन बजट न मिलने से बदहाल है। हॉस्पिटल की हालत पिछले कई महीनों से नाजुक बनी हुई है।

इसका खुलासा तब हुआ जब न्यूज ट्रैक की टीम ने एसएन हॉस्पिटल की पड़ताल की।

खाली हाथ मरीज

-एक तरफ गर्मी के मौसम में बीमारियां और मरीजों की संख्या बढ़ रही है, तो दूसरी तरफ मेडिकल कॉलेज में दवाएं खत्म हो गई हैं।

-मुट्ठी भर दवाओं से घिसट रहे हॉस्पिटल में लोग घंटों लाइन लगाने के बाद खाली हाथ लौट रहे हैं।

-कई बेहद महत्वपूर्ण दवाएं नदारद हैं, और मरीज बाहर से मंहगी दवा खरीदने को मजबूर हैं।

ये दवाइयां नहीं

-फूड प्वायजनिंग, पेट दर्द, एसिडिटी, ब्लड प्रेशर जैसी कई सामान्य बीमारियों में दी जाने वाली महत्वपूर्ण दवाएं खत्म हो चुकी हैं।

-नाक, कान और गला, स्किन, पेट के कीड़े, बुखार, आंखों के ड्रॉप समेत कई जनरल मेडिसिन्स भी नहीं हैं।

-जो दवाएं नहीं हैं, उनमें- पेनटॉप 40 mg, ओमेज 20mg, रेनिटिडीन 150mg, ईकोस्पिरिन 75 mg, मोनिट 20mg भी शामिल हैं।

-मेफस्पास टैबलेट, एंटासिड सिरप, एल्मुडाजॉल, एटॉरवासटन टैबलेट, एम्लोडिपिन, टेल्मिस्टान जैसी साधारण दवाएं खत्म हो गई हैं।

-दस्त रोकने की दवा मेट्राजॉल 400mg, नोरफॉक्स 500mg, सिप्लॉक्स 500mg भी मरीजों को नहीं दी जा रही।

-कॉलेज की ओपीडी में आने वाले मरीजों को ओआरएस घोल भी नसीब नहीं हो रहा है।

-स्किन डिजीज की सेनीजिन और सीपीएम टैबलेट भी कॉलेज में नहीं है।

-ह्रदय रोगियों के लिए लाइफ सेविंग मेडिसिन सॉर्बिट्रेट भी मौजूद नहीं है।

nrhm scam-supply stop-sn medical आगरा का एसएन मेडिकल कॉलेज

-मरीजों का पलायन

-संकट से जूझते बहुत से गरीब मरीज हॉस्पिटल से पलायन कर दूसरी जगहों पर जा रहे हैं।

-हालांकि, एसएन मेडिकल कोलेज के अधीक्षक ने दावा किया कि हॉस्पिटल में करीब 150 दवाइयां मौजूद हैं।

-व्यवस्था के लिए चालू साल के बजट से ज्यादा दवाइयां मार्केट से खरीदी जा चुकी हैं।

-करीब 40 लाख रुपए मार्केट का बकाया भी है।

-शासन से बजट बढाने और जल्द दवाओं की व्यवस्था के लिए लिखा गया है।

sn medical-medicine supply stop-nrhm scam दवाओं के खाली डिब्बे

एनआरएचएम इफेक्ट

-अधीक्षक डॉ. शैलेन्द्र ने बताया कि जिन 2 कंपनियों को ठेका दिया गया था, वो रद्द कर दिया गया है।

-ये दोनों कंपनियां एनआरएचएम घोटाले में शामिल पाई गई हैं।

Sanjay Bhatnagar

Sanjay Bhatnagar

Writer is a bi-lingual journalist with experience of about three decades in print media before switching over to digital media. He is a political commentator and covered many political events in India and abroad.

Next Story