बनारस के लोगों को करना पड़ेगा इंतजार, फिलहाल नहीं खुलेंगी दुकानें

गृहमंत्रालय की ओर से दुकानें खोले जाने के संबंध में जारी एडवाइजरी के बाद शनिवार की सुबह से ही जिले में उहापोह की स्थिति बनी रही। सुबह-सुबह आम जनमानस से लेकर दुकानदार दुकान खोलने के आदेश को स्पष्ट करने में जुटे रहे।

वाराणसी। गृहमंत्रालय की ओर से दुकानें खोले जाने के संबंध में जारी एडवाइजरी के बाद शनिवार की सुबह से ही जिले में उहापोह की स्थिति बनी रही। सुबह-सुबह आम जनमानस से लेकर दुकानदार दुकान खोलने के आदेश को स्पष्ट करने में जुटे रहे। गृहमंत्रालय के आदेश चैनलों-अखबारों में पढ़ने के बाद कई इलाकों में सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ी। जैसे ही इसकी खबर डीएम कौशलराज शर्मा को लगी उन्होंने तत्काल आदेश दिए कि वाराणसी में फिलहाल नई कैटेगिरी की दुकान खोलने का कोई आदेश नहीं है। आवश्यक सामग्री की जो दुकाने पहले से 10 बजे तक खुल रही हैं, सिर्फ वही दुकानें खुलेंगी। जब नई कैटेगरी की दुकानों को खुलने का निर्णय होगा, तो जनसामान्य को समय से अवगत करा दिया जाएग।

ये भी पढ़ें…फसलों का लगा अंबार, आंखों में आंसू लिए दर-दर भटक रहा किसान

जिले में जारी रहेगा यथास्थिति

फल, सब्जी, दूध और अनाज/गल्ला की होलसेल दुकान प्रतिदिन खुलेंगी। इनके खुलने का समय केवल पूर्वान्ह 10:00 बजे तक का होगा। आवश्यक वस्तुओं का विक्रय करने वाले रिटेल जैसे अनाज, गल्ला, किराना, जनरल स्टोर, दूध, सब्जी, फल, पोल्ट्री व अण्डा की दुकानें कृषि संबंधी बीज, संयंत्र, रसायन, उर्वरक की दुकानें पोल्ट्री फीड, पशु चारा की दुकानें प्रतिदिन पूर्वान्ह 10:00 बजे तक ही खुलेंगी।

होलसेल की दवा मण्डियॉ प्रतिदिन पूर्वान्ह 12.00 बजे तक खुलेंगी। दवाई की दुकानें, डॉक्टर क्लिनिक और सभी निजी अस्पताल, पैथोलॉजी लैब से जुड़े रिटेल एवं होलसेल की दुकानें प्रतिबंध से मुक्त रहेंगी।

ये भी पढ़ें…लॉकडाउन वाला Whatsapp: अब आ रहा नया फीचर, यूजर्स की बल्ले-बल्ले

बनारस में कोरोना का ये है हाल

बनारस में कोरोना के अब तक 26 मामले सामने आ चुके है। इसमें से एक शख्स की मौत भी हो चूकीभाई। फिलहाल जिले के 7 इलाकों को हॉट स्पॉट घोषित किया जा चुका है।

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखने के बाद जिला प्रशासन किसी तरह का रिस्क लेने के मूड में नहीं है। यही कारण है कि गृहमंत्रालय के आदेश के बाद भी जिलाधिकारी ने दुकानों को बंद रखने का निर्देश दिया है। माना जा रहा है कि 3 मई के बाद ही स्थानीय प्रशासन किसी निकर्ष पर पहुंच सकता है।

ये भी पढ़ें…कोरोना से जागरूक करने के लिए समाजसेवी संस्था द्वारा बनाई गई पेंटिंग, देखें तस्वीरें

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App