Top

मथुरा हिंसा की CBI जांच के लिए HC में याचिका, 13 जून को होगी सुनवाई

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 10 Jun 2016 8:37 PM GMT

मथुरा हिंसा की CBI जांच के लिए HC में याचिका, 13 जून को होगी सुनवाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इलाहाबादः मथुरा के जवाहर बाग में हुई हिंसा की सीबीआई जांच की मांग में हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर सीबीआई जांच की अपील की गई है। याचिका में कहा गया है कि इस घटना का खुलासा सिर्फ सीबीआई ही कर सकती है। याची ने कहा है कि यूपी सरकार के कई बड़े नेता घटना से जुड़े हैं। इस याचिका पर 13 जून को सुनवाई होगी।

याचिका में क्या कहा गया है?

-याचिका अश्विनी कुमार उपाध्याय ने दाखिल की है। पहले उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी थी।

-सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें हाईकोर्ट जाने के लिए कहा था।

-याचिका में कहा गया है कि राज्य सरकार सीबीआई जांच की सिफारिश नहीं कर रही है।

-स्थानीय पुलिस राजनीतिक दबाव के कारण निष्पक्ष जांच नहीं कर सकती।

-यूपी सरकार अपने नेताओं की संलिप्तता छिपाने की कोशिश कर रही है।

दारोगा के निलंबन और ट्रांसफर पर रोक

हाईकोर्ट ने संत रविदास नगर के दरोगा रमेश चौबे के निलंबन और ट्रांसफर आदेश पर स्टे दे दिया है। दारोगा ने कोर्ट में याचिका दाखिल कर महाराष्ट्र के सपा विधायक अबु आजमी के इशारे पर डीजीपी की ओर से परेशान करने का आरोप लगाया है। दारोगा के अनुसार उसने 27 जनवरी को मांस लदा ट्रक पकड़ा था। इसका नमूना जांच के लिए भेजा गया। अबु आजमी उस पर ट्रक रिलीज करने का दबाव डालते रहे। जब उसने ऐसा नहीं किया तो उसे सस्पेंड कर दिया गया। बाद में उसका ट्रांसफर मऊ कर दिया गया और कानपुर में अटैच किया गया है। कोर्ट ने इस पर छह हफ्ते में सरकार से जवाब मांगा है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story