Top

UPCC मुख्यालय में बना PK का War Room, टांगा No Entry का बोर्ड

Admin

AdminBy Admin

Published on 26 April 2016 6:40 AM GMT

UPCC मुख्यालय में बना PK का War Room, टांगा No Entry का बोर्ड
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: पीके की टीमें 26 अप्रैल से क्लास रूम से बाहर निकलकर जमीनी हकीकत का जायजा लेने यूपी के तीन मंडलों में जा रही हैं। अगर सब कुछ सही रहा तो मई के अंत तक पूरे प्रदेश में यह काम पूरा हो जाएगा। जमीनी हकीकत का जायजा लेने के बाद अगला काम जो भी फाइंडिंग्स है उसके अनुसार आगे की रणनीति तय करना है।

यह भी पढ़ें... PK अब क्लासरूम से निकलेंगे बाहर, गांव-गांव जाकर नापेंगे UP की रिएलिटी

उसके लिए UPCC के मुख्यालय में ही पीके का वाॅर रूम बनाया जा रहा है। इस वाॅर रूम से यूपी की हर योजना को अमल में लाने का काम किया जाएगा जबकि पीके का मेन ऑफिस दिल्‍ली से भी नजर रखेगा।

UPCC के मुख्यालय के तीसरे ताल पर पीके का वाॅर रूम

ऑफिस की जिम्मेदारी संभाल रहे पीके की टीम के एक सदस्य ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जल्द ही हमारी टीम एक्टिव हो जाएगी और हमारा काम दिखने लगेगा। माल एवेन्यु स्थित UPCC के मुख्यालय के तीसरे ताल पर पीके को वाॅर रूम बनाने की जगह दी गई है।

यह भी पढ़ें...PK की स्ट्रैटेजी: बाहुबलियों के खिलाफ कांग्रेस उतारेगी महिला उम्मीदवार

सूत्रों की मानें तो पीके ने मुख्यालय के छत का बड़ा कमरा अपना वाॅर रूम बनाने के लिए मांगा था। क्योंकि निचले फ्लोर पर लोगों का बहुत आना जाना रहता है जो कि पीके को पसंद नहीं।

टीम पीके के अलावा नहीं है किसी की एंट्री

पीके के UPCC मुख्यालय स्थित वाॅर रूम में सिर्फ पीके की टीम के ही लोग जा सकते हैं। उस टीम के अलावा किसी भी बाहरी व्यक्ति के अंदर जाने पर सख्त मनाही है। कांग्रेस नेताओं की मानें तो यूपी के चुनाव की मोनिटरिंग के लिए हर जिले में वाॅर रूम बनाया जाएगा और वहां से ही चुनाव पर नजर रखी जाएगी। जबकि मुख्यालय में बना वाॅर रूम से प्रदेश भर पर नजर रखी जाएगी।

हर जिले के लिए होंगे को-आर्डिनेटर

चुनाव के दौरान हर जिले के लिए को-आर्डिनेटर होगा। लगभग दो सौ लोगों की टीम मुख्यलाय से ही चुनाव पर नजर रखेगी, यह सोशल मीडिया से लेकर कैम्पेनिग के हर काम पर अपनी नजर रखेगी। जबकि चुनाव के पहले शार्ट टर्म के लिए भी कार्यकर्ता हायर किए जा सकते हैं। लेकिन हर विधान सभा क्षेत्रवार उनकी संख्या क्या होगी और उन्हें इसके लिए कितना पेमेंट किया जाएगा इस बात का खुलासा नहीं हो सका है।

Admin

Admin

Next Story