Top

VIDEO: RSS पैंट पहने या बिकनी, नहीं बदलेगी उनकी विचारधारा : पुनिया

Admin

AdminBy Admin

Published on 13 March 2016 3:19 PM GMT

VIDEO: RSS पैंट पहने या बिकनी, नहीं बदलेगी उनकी विचारधारा : पुनिया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: केंद्र की सत्तारूढ़ भाजपा की समर्थक राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) द्वारा किए गए ड्रेस में बदलाव को लेकर राज्यसभा सदस्य और कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने हमला बोला है। उन्होंने कहा कि आरएसएस चाहे पैंट में रहे या बिकनी में, हमें क्या फ़र्क़ पड़ता है। हम तो चिंतित हैं उनकी विचारधारा से। ये देश के सामने एक ऐसा खतरा है।

पीएल पुनिया ने रविवार को अपने गृह जिले बाराबंकी के जीआईसी परिसर में आयोजित ‘गांधी शिल्प बाजार, का शुभारंभ किया। इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए पुनिया ने बहुत ही बेबाकी से सवालों का जवाब दिया। अपने बयानों में उन्होंने आरएसएस, विजय माल्या और सूबे की सत्ताधारी समाजवादी पार्टी पर जमकर निशाना साधा।

आरएसएस को लेकर और क्या कहा पुनिया ने

-आरएसएस अपने सांप्रदायिकता से भरे जहरीले विचारों को बदल लें तो ज्यादा बेहतर होगा।

-ये पूरी तरह से सांप्रदायिकता का ज़हर देश और समाज में घोलते हैं।

-आरएसएस ध्रुवीकरण कर उन्हें बांटने का काम करते हैं।

-कभी देशभक्ति की बात तो होती ही नहीं।

-उनके हिसाब से हिन्दुस्तान में सब देशद्रोही ही देशद्रोही हैं।

विजय माल्या से जुड़े एक सवाल पर पुनिया का जवाब

-विजय माल्या भागे नहीं बल्कि उन्हें भगाया गया है।

-सब जानते हैं कि माल्या रंगीन मिजाज हैं।

-फिर भी सरकार ने उन्हें समर्थन देकर राज्यसभा तक पहुंचाया।

-माल्या को भगाया गया है इसलिए प्रधानमंत्री को जवाब देना चाहिए।

सपा सरकार पर भी साधा निशाना

-समाजवादी दिवस से जुड़े सवाल पर पुनिया ने कहा, विदाई समारोह एक साल पहले क्यों?

-अभी तो एक साल का कार्यकाल बाकी है।

-मैं समझता हूं कि ये विदाई समारोह समय के हिसाब से नहीं है।

एक्साइज ड्यूटी को लेकर भी कसा तंज

-हम इस मुद्दे को सदन में भी उठा रहे हैं।

-हम सर्राफा व्यापारियों के साथ हैं।

-सर्राफा व्यापार पर एक्साइज ड्यूटी ख़त्म होनी चाहिए।

-सर्राफा व्यापारियों को असलहों के लाइसेंस दिए जाने चाहिए।

Admin

Admin

Next Story