Top

PNB के ब्रांच मैनेजर का 11 साल का बेटा अगवा, मांगी 25 लाख की फिरौती

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 Jun 2016 10:14 PM GMT

PNB के ब्रांच मैनेजर का 11 साल का बेटा अगवा, मांगी 25 लाख की फिरौती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुरः शहर के नौबस्ता थाना इलाके के किदवई नगर में पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के ब्रांच मैनेजर के बेटे को बुधवार शाम अगवा कर लिया। वह ट्यूशन पढ़ने गया था और अपनी बहन के पीछे वह ट्यूशन की जगह से निकला था। 22 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस बच्चे को नहीं ढूंढ नहीं पाई है। परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। किडनैपर्स ने बच्चे की परिजनों से बात कराई। जिसमे बच्चे ने कहा हेलो डैडी इतना कहने के बाद फोन कट गया। किडनैपर्स ने 25 लाख की फिरौती की मांग की है।

knp-abduct-2 आशुतोष की बहन से बात करते पुलिस अफसर

किडनैपर्स का फोन आने के बाद पुलिस अलर्ट

-किडनैपर्स द्वारा फिरौती मांगे जाने की सूचना के बाद पुलिस अलर्ट हो गई।

-पुलिस ने क्राइम ब्रांच की नौ टीमो को लगाया है।

-सर्विलांस की टीम लोकेशन ट्रेस करने में जुटी है।

--पुलिस के मुताबिक फोन कानपुर देहात के शिवली से आया था, वहां टीम भेजी गई है।

-क्राइम ब्रांच की टीम पूरे क्षेत्र के चप्पे-चप्पे में तैनात है।

-पुलिस सभी आने जाने वालों पर नजर रखे हुए है।

-एसपी साऊथ संजय यादव ट्यूशन टीचर और बच्चे के परिजनों से पूछताछ कर रही है।

knp-abduct-3 बैंक मैनेजर के घर पुलिस

कैसे हुआ अगवा?

-किदवई नगर के वाई ब्लॉक में रहने वाले धर्मपाल सिंह का बेटा आशुतोष है।

-कक्षा 6 का छात्र आशुतोष पड़ोस में ही ट्यूशन पढ़ने जाता था।

-उसकी बहन तान्या उसे ट्यूशन पढ़ाने वाली महिला के घर छोड़ने गई।

-वह बाहर निकली तो आशुतोष भी बाहर आ गया और वहीं से अगवा हुआ।

-घरवालों को अपहर्ताओं ने फोन कर फिरौती की रकम की व्यवस्था करने को कहा।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story