×

स्मारकों पर पुलिस ने चलाया एंटी रोमियो अभियान, ASI ने जताई आपत्ति, कहा-पर्यटन को होगा नुकसान

By

Published on 28 March 2017 7:42 AM GMT

स्मारकों पर पुलिस ने चलाया एंटी रोमियो अभियान, ASI ने जताई आपत्ति, कहा-पर्यटन को होगा नुकसान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

tajmahal एंटी रोमियो

आगरा: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने युवतियों को तंग करने वाले शोहदों को सबक सिखाने के लिए एंटी रोमियो टीम का गठन कर पूरे प्रदेश में मनचलों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश पुलिस विभाग को दिए हैं। लेकिन मोहब्बत और पर्यटन की नगरी आगरा में पुलिस सड़कों को छोड़ ऐतिहासिक स्मारकों पर ही इन मनचलों को ढूंढने निकल पड़ी। एत्माद्दौला थाना अंतर्गत आने वाले महताब बाग़, जहां कभी शाहजहां ने काले ताजमहल की परिकल्पना की थी, वहां जाकर वहां मौजूद पर्यटकों और युगलों से सवाल जवाब किए।

इस पूरी कार्रवाई से भारतीय पुरातत्व विभाग के अधिकारी खासे नाराज हैं क्योंकि उनका मानना है कि इससे पर्यटकों के बीच शहर की नकारात्मक छवि जाएगी। आपको बता दें कि सभी संरक्षित ऐतिहासिक इमारतें और स्थल भारतीय पुरातव विभाग के अंतर्गत आते हैं।

महताब बाग़ पर कार्यरत एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि पांच से छह पुलिसकर्मी 9:30 के आसपास स्मारक पर एक जीप में आए और हम में से किसी को भी सूचित किए बिना पर्यटकों और वहां जाने वाले युगलों से कई तरह के प्रश्नों को पूछना शुरू कर दिया। काफी देर तक पर्यटकों और युगलों से पूछताछ करने के बाद पुलिसकर्मी चले गए।

आगे की स्लाइड में जानिए क्या है ताजमहल की देख-रेख से जुड़े अधिकारियों का कहना

उन्होंने बताया कि हमारे अपने स्वयं के सुरक्षा गार्ड है, जो पर्यटकों और युगलों की आवाजाही पर एक सतत निगरानी रखते हैं। लेकिन इस तरह से एक पर्यटन स्थल पर इस तरह से पूछताछ करना पर्यटकों को भयभीत करता है। उन्होंने बताया कि इसके बारे में एक विस्तृत रिपोर्ट अधिकारियों को सौंपी जाएगी।

एएसआई अधीक्षक पुरातत्वविद् भुवन विक्रम ने बताया कि मुझे इस बारे में जानकारी मिली है। लेकिन पुलिस ने हमें स्मारक जाने से पहले सूचित नहीं किया है। स्मारकों के भ्रमण के दौरान सावधानी बरतें करने की आवश्यकता है। वहीं एत्माद्दौला के इंस्पेक्टर नरेंद्र कुमार ने बताया कि यह एक एंटी रोमियो अभियान नहीं था, यह स्मारक के लिए रूटीन चेकिंग की तरह है। ताज पर हमले को लेकर मीडिया में छापी गई, खबरों के बाद यहां सुरक्षा कड़ी कर दी गई है क्योंकि ये स्मारक ताज के बिलकुल पीछे स्थित है ।

Next Story