Top

चेन स्नैचर के गैंग का हुआ खुलासा, पाप से बचने के लिए करते थे दान

By

Published on 24 Jun 2016 7:23 AM GMT

चेन स्नैचर के गैंग का हुआ खुलासा, पाप से बचने के लिए करते थे दान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: कहते हैं हर धंधे का वसूल होता है। धंधा जितना गन्दा हो वसूल उतने ही पक्के। राजधानी की गोमतीनगर पुलिस ने चेन लूटने वाले एक गैंग का पर्दाफाश किया हैं, जो लूट के माल का बीस फीसदी हिस्सा दान करता था और बाकी के पैसे से अपने गैंग के साथ ऐश करता था।

क्या कहती हैं एसएसपी?

एसएसपी मंजिल सैनी ने कहा कि गोमतीनगर पुलिस ने चैन स्नेचर्स के गैंग का पर्दाफाश करते हुए चार लुटेरों को अरेस्ट किया। इनके साथ ही पुलिस ने लूटी गई चेन खरीदने वाले सर्राफ भी पुलिस के हत्थे चढ़ा। अरेस्ट लूटेरों के पास से चोरी की एक पिस्टल, एक दर्जन चेन, दो बाइक व नकदी बरामद हुआ।

ये भी पढ़ें...1090 की एंजेल ने दिखाई पॉवर, चैन स्नेचर से भिड़कर पहुंचाया जेल

क्या कहते हैं एसओ?

एसओ गोमतीनगर धीरेन्द्र शुक्ल ने बताया कि लुटेरों का सरगना दिन में जीपीओ पर चाय बेचता था।

शाम को वह चेन लूटने का काम करते थे। एसएसपी मंजिल सैनी ने टीम को पांच हजार रूपये नकद ईनाम देने की घोषणा की है।

दिन में बेचते थे चाय

सीओ गोमतीनगर सत्यसेन यादव के मुताबिक लुटेरों की शिनाख्त सरगना आयुष सक्सेना निवासी राधाकृष्ण मंदिर नरही हजरतगंज, चालक कुमार कश्यप उर्फ सिंटू निवासी साकेत पल्ली कोतवाली हजरतगंज, मनोज कुमार निवासी पुरानी कचहरी कैसरबाग, शहनवाज पुत्र नासिम अली निवासी सेक्टर जे जानकीपुरम के रूप में हुई। जबकि इनके साथ ही लूट का चेन खरीदने वाले सर्राफ बाल स्वरूप पुत्र मुन्नू लाल निवासी राजाबाजार को भी अरेस्ट किया। सरगना आयुष ने बताया वह दिन में जीपीओ पर चाय बेचता है जबकि शाम होने के बाद उमेश के साथ चेन लूट की घटना को अंजाम देता था।

ये भी पढ़ें...तमंचे की नोंक पर दिनदहाड़े डकैती, ज्वैलरी शॉप में लूटपाट कर बदमाश फरार

पाप कम करने के लिए एक हिस्सा भगवान के नाम देते थे दान

बकौल एसएसपी लूटेरों ने पूछताछ में बताया कि वे लूट के माल का बीस फीसदी हिस्सा दान करते थे। उस पैसे का लूटेरे मस्जिदों में चादर चढ़ाने के साथ ही भंडारा भी करते थे। ऐसा इसलिए करते थे कि ताकि उनका पाप कुछ कम हो जाए।

गर्लफ्रेंड ने भी दिया धोखा

उमेश ने बताया कि वह महंगा कपड़ा, जूता खरीदने के लिए चेन लूट की घटनाओं को अंजाम देता है। पहले वह अपनी गर्लफ्रेंड के लिए करता था लेकिन उसने दूसरे से शादी कर ली।

Next Story