Top

लेडी सिंघम से छुट्टियों के लिए गिड़गिड़ाता रहा SI कृष्ण, डेंगू से हुई मौत

aman

amanBy aman

Published on 13 Aug 2016 4:01 PM GMT

लेडी सिंघम से छुट्टियों के लिए गिड़गिड़ाता रहा SI कृष्ण, डेंगू से हुई मौत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: 'लेडी सिंघम' मंजिल सैनी का दिल नहीं पसीजा दुनिया से सिधार गया पुलिस सब इंस्पेक्टर कृष्ण गोपाल शुक्ला। पहले पीलिया और फिर डेंगू के इलाज के लिए गिड़गिड़ाता रहा लेकिन उसे छुट्टी नहीं मिली। अब कृष्ण गोपाल के घर पर पसरा है मातम। तो बेज़ुबान बच्ची बेसुध हो चुकी अपनी गर्भवती मां के चेहरे को देखकर समझ नहीं पा रही कि आखिर माजरा क्या है और उस का क़ुसूर क्या, जो उस के सिर से बाप का साया उठ गया।

सीएम अखिलेश यादव ने कृष्ण गोपाल के निधन पर दुख जताया है। उन्होंने मृत सब इंस्पेक्टर के परिवार को 20 लाख रुपए की मदद देने का भी शनिवार रात को ऐलान किया। लेकिन सवाल ये है कि अपने परिवार के एक सदस्य को गंवाने वालों को क्या इन 20 लाख रुपयों से उसकी कमी खलनी बंद हो जाएगी।

वो छुट्टी के लिए गिड़गिड़ाता रहा

साहब, मुझे छुट्टी दे दीजिए बहुत बीमार हूं। मैडम, चल नहीं पा रहा हूं इलाज कराना है। छुट्टी दे दीजिए। कुछ इसी अंदाज में हाथ-पैर जोड़कर अपनी जान की भीख मांग रहा था। गिड़गिड़ाता रहा लेकिन स्वघोषित 'लेडी सिंघम' उसे भगाती रही। बेबस पुलिस सब इंस्पेक्टर कृष्ण गोपाल शुक्ला दुनिया सिधार गया। लेकिन एसएसपी मंजिल सैनी का दिल नहीं पसीजा। भूतनाथ पुलिस चौकी पर तैनात कृष्ण गोपाल शुक्ला का क़ुसूर सिर्फ इतना था की वो अपनी ड्यूटी के लिए ईमानदार था और विभाग के लिए वफादार।

ये भी पढ़ें ...UP: सीएम के सलाहकार ने माना, सूबे में बढ़ी हैं आपराधिक घटनाएं

निभा रहा था ड्यूटी, जब हालत हुई बेहद गंभीर

ड्यूटी के दौरान हालत गंभीर होने पर कृष्ण गोपाल को पहले शेखर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। जहां डेंगू की पुष्टि होने पर उन्हें एसजीपीजीआई ले जाया गया। जहां इलाज के दौरान कृष्ण गोपाल की मौत हो गई। मृत इंस्पेक्टर के परिजनों का आरोप है कि अफसरों की जिद की वजह से ही उसकी मौत हुई।

उठ गया सिर से बाप का साया

कृष्ण गोपाल शुक्ला के परिवार में पत्नी के अलावा ढाई साल की बच्ची है। जबकि एक मासूम के दुनिया में आने से पहले ही उसके सर से बाप का साया उठ गया।

ये भी पढ़ें ...खनन जांच के लिए CBI टीम पहुंची UP, बचने के रास्ते तलाश रही सरकार

अंतिम दर्शन में उमड़े प्रशासन के लोग

मौत के बाद उनका पार्थिव शरीर उनके अलीगंज स्थित आवास पर ले जाया गया। जहां आईजी, लखनऊ ए सतीश गणेश, एसएसपी लखनऊ, एसपी ट्रांसगोमती जयप्रकाश यादव, सीओ ग़ाज़ीपुर दिनेश पुरी के अलावा कृष्ण गोपाल के साथियों ने अंतिम दर्शन किए। इसके बाद उनका पार्थिव शरीर गोंडा ले जाया जा रहा है।

साथियों में खासी नाराज़गी

कृष्ण गोपाल की असामयिक मौत से उनके साथियों में एसएसपी के खिलाफ गुस्सा है। बातचीत में कृष्ण गोपाल के साथ लखनऊ में काम कर चुके साथियों ने बताया की पीलिया के दौरान इलाज के लिए छुट्टी नहीं मिली। जब ड़ेंगू की पुष्टि हुई तब भी अफसर छुट्टी देने से कतराते रहे। साथ ही इस बात की नाराज़गी भी देखी गई की पुलिस लाइन में सलामी परेड तक नहीं हुई।

ये भी पढ़ें ...UP का ये थाना जहां खुलेआम चलता था मयखाना, होती थी अवैध शराब की सप्‍लाई

क्या कहा डीआईजी ने ?

डीआईजी लखनऊ आरके एस राठौर का कहना है कि कृष्ण गोपाल शुक्ला की मौत बेहद दुखद है। उन्होंने कहा कि विभाग के साथ ही डॉक्टरों ने कृष्ण गोपाल को बचाने की भरपूर कोशिश की। लेकिन दुख इस बात का है कि उन्हें बचाया नहीं जा सका। पुलिस में सलामी परेड नहीं होने के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, कृष्ण गोपाल के परिजन पार्थिव शरीर गोंडा ले जाना चाहते थे। इसी वजह से पुलिस लाइन परेड नहीं हो की सकी।

दरोगा को नहीं दी छुट्टी, खुद घूम आई हांगकांग

एसएसपी लखनऊ मंजिल सैनी ने भले पुलिस सब इंस्पेक्टर को इलाज के लिए छुट्टी नहीं दी हो लेकिन खुद हांगकांग घूमने जाने से गुरेज़ नहीं किया। दरअसल, मंजिल सैनी ने 19 मई को एसएसपी लखनऊ के तौर पर कार्यभार ग्रहण किया था। इसके बाद वो 23 मई को बावजूद इसके अपने परिवार के साथ छुट्टियां मनाने के लिए हांगकांग चली गई थीं।

इस दौरान सीनियर पुलिस अफसरों ने रमज़ान करीब होने की वजह से छुट्टी पर जाने को कहा था लेकिन पैसे की बर्बादी की आड़ लेकर वो विदेश घूमने चली गईं। ऐसे में सवाल उठता है कि सीनियर अफसरों को घूमने के लिए छुट्टी मिल सकती है और छोटे कर्मचारियों इलाज कराने के लिए भी नहीं।

ये भी पढ़ें ..वाट्स ऐप पर विवादित पोस्ट के बाद पथराव, कानपुर में तनाव

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story