×

सण्डीला पुलिस का कारनामा, बच्चों से उठवाए कच्ची शराब के पीपे

हरदोई में पुलिस का गैरजिम्मेदाराना रवैया सामने आया है। जिले के सण्डीला कोतवाली क्षेत्र में पुलिस ने छापा मारकर भारी मात्रा में अवैध शराब बरामद की थी। लेकिन इस मामले में पुलिस की आलोचना हो रही है। दरअसल पुलिस ने कच्ची शराब के पीपे खुद ना निकालकर बच्चों से यह काम करवाया।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 24 Jan 2019 3:50 PM GMT

सण्डीला पुलिस का कारनामा, बच्चों से उठवाए कच्ची शराब के पीपे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

हरदोई : हरदोई में पुलिस का गैरजिम्मेदाराना रवैया सामने आया है। जिले के सण्डीला कोतवाली क्षेत्र में पुलिस ने छापा मारकर भारी मात्रा में अवैध शराब बरामद की थी। लेकिन इस मामले में पुलिस की आलोचना हो रही है। दरअसल पुलिस ने कच्ची शराब के पीपे खुद ना निकालकर बच्चों से यह काम करवाया। पुलिस के इस रवैया का एक वीडियो सामने आया है. वहीं एसपी आलोक प्रियदर्शी ने कहा है कि मामले की जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार से लेकर प्रदेश सरकार तक बच्चों की शिक्षा को लेकर संवेदनशील होने का एहसास करती है। मलिन बस्तियों और अति पिछड़े बच्चों की शिक्षा के लिए नई-नई योजनाएं धरातल पर लाई जा रही हैं। वहीं पुलिस बच्चों से इस तरह का कार्य करा रही है।

ये भी देखें : लोकतंत्र को बचाने के लिए सपा-बसपा गठबंधन ही विकल्प : अखिलेश

मामला यह है कि सण्डीला तहसील की पुलिस को सूचना मिली कि गल्ला गोदाम के पीछे कच्ची शराब गड़ी है। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंचकर जमीन के अंदर डिब्बे निकलवाने के लिए कई लोगों को लगाया। जिनमे बहुत से नाबालिग बच्चे नजर आए, जो शराब के डिब्बे निकाल रहे थे।

वीडियो वायरल होने के बाद जब एसपी आलोक प्रियदर्शी से नाबालिग बच्चो को शराब निकालने के विषय मे पूछा गया, तो एसपी आलोक प्रियदर्शी जांच की बात करते हुए दिखे।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story