Top

पुलिस की लापरवाही और घटनाओं पर पर्दा डालने से बढ़ते गए हाइवे पर अपराध

By

Published on 4 Aug 2016 12:02 PM GMT

पुलिस की लापरवाही और घटनाओं पर पर्दा डालने से बढ़ते गए हाइवे पर अपराध
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बुलंदशहरः पुलिस ने 30 जून को एनएच पर हुए ढाबा लूटकांड के आरोपी रईस को अरेस्ट कर लिया है। इस मामले पर स्थानीय लोगों का कहना है कि इस हाइवे पर अक्सर लूट आदि की घटनाएं होती रहती हैं लेकिन पुलिस पीड़ित को धमका कर मामला रफा दफा करा देती है। यहां तक कि एक घटना में लूट के आरोपी की पहचान बताए जाने के बाद भी पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। अगर पुलिस अपराधों पर पर्दा न डालती तो यह घटना न होती।

इनका दावा 30 जून की लूट में शामिल था रहीसुद्दीन

नेशनल हाइवे बाईपास के पास एमएस इंस्टीट्यूट के बाहर सोनू और उनकी पत्नी राजकुमारी चाय और रोटी का ढाबा चलाते है। इनका कहना है कि पास के ही गांव सुतारी का रहीसुद्दीन अक्सर यहां सिगरेट पीने आता था। सोनू का कहना है कि 30 जून की रात को 11 बजे रहीसुद्दीन सिगरेट पीने आया था। सिगरेट पीने के बाद वह चला गया और उसने अगले एक घंटे में ढाबे के कई चक्कर लगाए। उसके बाद रात 2 बजे आधा दर्जन से अधिक बदमाशों ने ढाबे पर धावा बोल दिया था।

ये भी पढ़ें... अखिलेश बोले- गैंगरेप केस में CBI जांच के लिए तैयार, BJP कर रही राजनीति

ढाबा संचालक सोनू कहते है कि इन बदमाशों में रहीसुद्दीन को उन्होंने पहचान लिया था। उसने गल्ले में रखे करीब 18 हजार रूपए निकाल लिए थे। इस घटना में बदमाशों ने ट्रक ड्राइवर और वहां मौजूद अन्य लोगों के हाथ पैर बांध दिए थे। नकदी और मोबाइल फोन लूटने की यह वारदात करीब डेढ़ घंटे तक चली थी।

ट्रक ड्राइवर पर चलाई थी गोली

सोनू कहते है कि सड़क के दूसरी ओर खड़े ट्रक में सो रहे ड्राइवर को बदमाशों ने खिड़की खोलने के लिए कहा था। ड्राइवर समझ गया कि खिड़की खुलवाने वाले बदमाश है, उसने ट्रक की खिड़की खोलने के बजाए ट्रक स्टार्ट कर दौड़ा दिया। यह देख बदमाशों ने ट्रक ड्राइवर के ऊपर गोली चला दी थी। ट्रक ड्राइवर तब चोला पुलिस चौकी पहुंच गया था। ट्रक ड्राइवर के साथ चौकी प्रभारी प्रदीप यादव ढाबे पर पहुंचे थे।

सोनू का आरोप है कि चौकी प्रभारी ने बदमाशों को पकड़ने के बजाए उल्टा उन्हें ही धमका कर जेल भेजने की धमकी दी थी। बाद में थाना प्रभारी भी मौके पर पहुंचे थे, उन्होंने ने भी बदमाशों की तलाश करने के बजाए ट्रक ड्राइवरों को वहां से भगा दिया था। सोनू ने घटना में रहीसुद्दीन के शामिल होने की जानकारी पुलिस को दी थी, लेकिन बाद में पुलिस ने सेटिंग कर रहीसुद्दीन को छोड़ दिया था।

ये भी पढ़ें... बुलंदशहर गैंगरेप केसः पीड़ित बोले- न्याय न मिला तो करेंगे आत्मदाह

इन घटनाओं में भी रहीसुद्दीन पर शक

पुलिस द्वारा अरेस्ट किए गए रहीसुद्दीन पर खुर्जा देहात के धराऊं गांव में निमार्णाधीन कोल्डस्टोर पर 24 जुलाई को हुई डकैती के मामले को अंजाम देने का भी शक है। इस घटना में मध्यप्रदेश के मजदूरों के परिवार से करीब 3 लाख रूपए की डकैती हुई थी। चर्चा है कि बदमाशों ने घटना के दौरान महिलाओं के साथ रेप भी किया था, लेकिन पुलिस ने घटना केवल लूट की धाराओं में दर्ज की थी। घटना के बाद पीड़ित परिवार वहां से पलायन कर गया था।

क्या कहते हैं एसएसपी अनीस अहमद अंसारी

सभी मामलों की जांच कराई जाएगी। अगर पुलिस कर्मियों की किसी भी मामले में लापरवाही या मिली भगत पाई गई तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Next Story