×

UP: उत्तर प्रदेश में हटाए जाएंगे कमरतोडू स्पीडब्रेकर, सीएम योगी ने दिए निर्देश

Table Type Speed Breakers In UP: अब प्रदेश में जहां कहीं भी मानक विपरीत स्पीड ब्रेकर बने हैं उन्हें तत्काल हटाकर टेबल टाइप स्पीड ब्रेकर बनाए जाएंगे।

Shreedhar Agnihotri
Updated on: 18 May 2022 5:14 PM GMT
UP: उत्तर प्रदेश में हटाए जाएंगे कमरतोडू स्पीडब्रेकर, सीएम योगी ने दिए निर्देश
X

सीएम योगी आदित्यनाथ-स्पीड ब्रेकर (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Uttar Pradesh News: उत्तर प्रदेश की सड़कों और गलियों में बेतरतीब बने कमरतोडू स्पीड ब्रेकरों (Speed Breakers) को नहीं बनाया जाएगा, जो बीमार व्यक्तियों व गर्भवती महिलाओं के लिए खतरनाक हो सकते हैं। अब प्रदेश में जहां कहीं भी मानक विपरीत स्पीड ब्रेकर बने हैं उन्हें तत्काल हटाकर टेबल टाइप स्पीड ब्रेकर बनाए जाएंगे। साथ ही सड़क किनारे से अपर्याप्त पार्किंग वाले अवैध ढाबों को हटाया जाएंगे। यह बात आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कही।

सीएम योगी ने कहा कि प्रत्येक नागरिक का जीवन अमूल्य है। यह अत्यंत दुःखद है कि प्रति वर्ष बहुत से लोग थोड़ी सी असावधानी के कारण सड़क दुर्घटनाओं में असमय काल-कवलित हो जाते हैं। अतः हमें सतत सतर्क सावधान रहना होगा। उन्होंने कहा कि हाई-वे, एक्सप्रेस-वे, पीडब्ल्यूडी, नगर विकास या किसी अन्य विभाग से जुड़ी सड़कों से भी अवैध अतिक्रमण हटना चाहिए। सड़कों पर अतिक्रमण की समस्या को समाप्त करना होगा। पटरी व्यवसायियों के स्थान का चिन्हांकन करते हुए यह सुनिश्चित करें कि कोई तय स्थान के बाहर दुकान न लगाएं।

सीमा के अंदर होनी चाहिए हर दुकान

उन्होंने कहा कि व्यापारियों से बातचीत करके यह सुनिश्चित कराएं की हर दुकान अपनी सीमा के भीतर ही हो। नगरों में पार्किंग की व्यवस्था को और सुदृढ़ करना होगा। स्थानीय प्रशासन की जिम्मेदारी है कि अवैध टैक्सी स्टैंड की समस्या का स्थायी समाधान करे। अन्यथा की स्थिति में जवाबदेही तय की जाएगी।

योगी आदित्यनाथ ने कहा बेसिक और माध्यमिक स्कूलों में बच्चों को यातायात नियमों के पालन के लिए विशेष प्रयास किए जाने की जरूरत है। ट्रैफिक नियमों के पालन का संस्कार बच्चों को शुरुआत से ही दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि यातायात नियमों के संबंध में प्रधानाचार्यों प्राचार्यों एवं विश्वविद्यालय के प्रतिनिधियों का प्रशिक्षण कराया जाए। अगले दो दिनों के भीतर अभिभावकों के साथ भी विद्यालयों में बैठक हो।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सड़क सुरक्षा केवल एक विभाग की जिम्मेदारी नहीं है। यह सामूहिक प्रयासों से ही संभव हो सकेगा। अतः सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए अन्तर्विभागीय समन्वय के साथ वृहद अभियान चलाया जाना जरूरी है। अभियान में सड़क सुरक्षा के विभिन्न घटकों जैसे रोड इंजीनियरिंग, प्रवर्तन कार्य, ट्रामा केयर और जनजागरूकता को समाहित किया जाए।

होगी इंफोर्समेंट की कार्रवाई

उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा अभियान के दूसरे चरण में इंफोर्समेंट की कार्रवाई हो। पूरे प्रदेश में सड़क सुरक्षा के नियमों का अनुपालन कड़ाई से सुनिश्चित कराया जाए। विधिवत प्रशिक्षित लोग ही सड़क पर वाहन चलाएं। ड्राइविंग टेस्टिंग प्रणाली के आइटोमेशन की आवश्यकता है। ओवरस्पीडिंग एवं ओवरलोडिंग के विरुद्ध कठोरता से कार्रवाई की जाए। नियमों के उल्लंघन पर वाहन का चालान जरूर किया जाए।

योगी ने कहा कि प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रदेश के किसी भी क्षेत्र में अनफिट एवं बिना परमिट के स्कूली बसों का संचालन नहीं होगा। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजमार्गों और एक्सप्रेस-वे पर ओवरस्पीड के कारण आए दिन दुर्घटनाओं की सूचना मिलती है। ऐसे में ब्लैक स्पॉट के सुधारीकरण, स्पीड मापन, त्वरित चिकित्सा सुविधा, सीसीटीवी आदि व्यवस्था को और बेहतर करने की जरूरत है।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story