Top

37 दिन बाद हो रहा रितु का पोस्‍टमार्टम, क्या अब मिलेगा बेटी को इंसाफ?

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 24 May 2016 10:14 PM GMT

37 दिन बाद हो रहा रितु का पोस्‍टमार्टम, क्या अब मिलेगा बेटी को इंसाफ?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कन्नौजः तिर्वा के सहनापुर गांव की रहने वाली बीकेट स्‍टूडेंट रितु यादव की लाश का बुधवार को दोबारा पोस्टमॉर्टम हो रहा है। रितु ग्रेटर नोएडा के गलगोटिया यूनिवर्सिटी से बीटेक कर रही थी। उसकी लाश 19 अप्रैल को बिल्डिंग के नीचे मिली थी। घरवालों ने इसे मर्डर बताया था और लाश का अंतिम संस्कार करने से मना करते हुए डीएम से दोबारा पोस्‍टमार्टम के लिए गुहार लगाई थी। डीएम ने पहले दोबारा पोस्‍टमार्टम के लिए मना कर दिया था, लेकिन मंगलवार को इसकी अनुमति दे दी थी।

सुसाइड नोट में क्या लिखा था रितु ने?

-रितु ने सुसाइड नोट में साथ रहने वाली चार छात्राओं पर प्रताड़ित और मारपीट करने का आरोप लगाया था।

-घटना वाले दिन अपनी सहेली के ब्वॉयफ्रेंड विशाल के भी कमरे में मौजूदगी का जिक्र किया था।

ritu-suicide-note रितु का सुसाइड नोट, जिसमें उसने सहेलियों पर आरोप लगाया है

घरवालों का क्या है कहना?

-रितु के घरवाले नोएडा पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगा रहे थे।

-रितु के शव को केमिकल लगाकर उसकी लाश दफना दी थी।

-कन्नौज प्रशासन से रितु के शव का दोबारा पोस्टमॉर्टम कराने की मांग की थी।

-नोएडा पुलिस ने मीडिया के दबाव के बाद दोबारा पोस्टमॉर्टम कराने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें...35 दिन बाद भी नहीं हुआ शव का अंतिम संस्‍कार, DM ने मदद से किया इनकार

तीन डॉक्टरों का पैनल करेगा पोस्टमॉर्टम

-डीएम ने पोस्टमॉर्टम कराने के लिए तीन डॉक्टरों का पैनल बनाने को कहा है।

-एसडीएम और सीओ ने रितु का शव निकलवाया और पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा।

-पोस्टमॉर्टम की वीडियोग्राफी के भी निर्देश दिए गए हैं।

स्टूडेंट की मौत से पहले हुई थी ये वारदात

मामले की जांच में जुटी ग्रेटर नोएडा की कासना पुलिस के मुताबिक, रितु ने 16 अप्रैल को एनआरआई रेजीडेंसी के पास स्थित जगत फार्म मार्केट स्थित एक डिपार्टमेंटल स्टोर से शॉपिंग के दौरान एक कॉस्मेटिक टोनर चुरा लिया था। इसकी कीमत करीब 85 रुपए बताई गई। 19 अप्रैल को जब रितु की दो रूममेट उसी स्टोर में गईं तो स्टोर के ओनर ने धमकी देते हुए कहा था कि अगर रितु ने दो दिनों में टोनर की कीमत नहीं दी या उसे लौटाया नहीं तो वह पुलिस में केस कर देगा और सीसीटीवी फुटेज सौंप देगा।

तानेबाजी बनी सुसाइड की वजह?

कासना पुलिस के मुताबिक, दोनों रूममेट्स ने वापस पहुंचकर रितु को यह बात बताई। इस बात को लेकर काफी बहस हुई और उसके रूममेट्स ने उसको इस चोरी को लेकर ताना भी दिया। पुलिस के मुताबिक उसी रात जब रूम में सब सो गए, तब वो छत पर गई और वहां से कूद गई।

मौत से पहले आया था आखिरी कॉल

रितु के बाबा राम मोहन सिंह जो कन्नौज में रहते हैं, उन्होंने newztrack को बताया कि जिस रात घटना हुई, रितु ने अपने घरवालों से बात की थी। उसने अपनी मां से कहा कि मम्मी, मैं पापा, इशु और भाई सभी से बहुत प्यार करती हूं , लेकिन मैं अब आप लोगों के लिए कुछ नही कर पाऊंगी। फिर उसने फोन काट दिया। उसकी मां ने वापस कॉल की। एक बार मोबाइल पर रिंग गई, लेकिन इसके मोबाइल स्विच ऑफ बताने लगा। इसके बाद 20 अप्रैल की सुबह साढ़े छह बजे कसाना थाने से कॉल आई कि आपकी बेटी ने सुसाइड कर लिया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story