×

गांवों की तरह अब शहरों में सामुदायिक शौचालयों का संचालन महिलाएं करेंगी

ग्रामीण इलाकों में निर्मित सामुदायिक शौचालयों के संचालन की जिम्मेदारी स्थानीय महिलाओं को दी गई है।

Shreedhar Agnihotri
Updated on: 2 July 2021 5:10 PM GMT
Yogi government of Uttar Pradesh is making constant efforts towards making the jails corruption-free.
X
योगी अदित्यनाथ (फोटो- सोशल मीडिया)
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना ग्रामीण इलाकों में लोगों को अपने घरों का स्वामित्व दिलाने में उपयोगी भूमिका निभा रही है। इसी के मद्देनजर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में निर्मित सामुदायिक शौचालयों के संचालन की जिम्मेदारी स्थानीय महिलाओं को दी गई है। नगरीय क्षेत्रों में निर्मित सामुदायिक शौचालयों के संचालन का कार्य स्थानीय महिलाओं को ही सौंपा जाए।

आलाधिकारियों के साथ बैठक में मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया गया कि निगरानी समितियों द्वारा लक्षणयुक्त एवं संदिग्ध संक्रमित व्यक्तियों की स्क्रीनिंग एवं मेडिसिन किट वितरण का कार्य सुचारु रूप से चल रहा है। बच्चों के लिए तैयार करायी गई मेडिसिन किट का वितरण भी कराया जा रहा है।

बेड की संख्या में वृद्धि

प्रदेश में चिकित्सा सुविधाओं के सुदृढ़ीकरण का कार्य तेजी से संचालित किया जा रहा है। विगत दिवस कोविड उपचार के लिए बेड की संख्या में 40 की वृद्धि हुई है। इसमें आइसोलेशन एवं आई0सी0यू0 दोनों प्रकार के बेड सम्मिलित हैं।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि तकनीक के व्यापक प्रयोग से प्रदेशवासियों तक विभिन्न आवश्यक सुविधाओं की पहुंच बढ़ायी जा सकती है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न एक्सप्रेस-वे के निर्माण की कार्यवाही को और तेज किया जाए। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे एवं बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का निर्माण पूरी गति से कराया जा रहा है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का अधिकतर कार्य पूरा कर लिया गया है। जल्द ही इस पर वाहनों का संचालन प्रारम्भ किया जा सकेगा।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की आधारशिला जुलाई, 2018 में रखी गई थी। कोरोना कालखण्ड में विभिन्न गतिविधियों के प्रभावित होने के बावजूद पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की निर्माण प्रक्रिया लगभग पूरी हो गई है।

उन्होंने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के किनारों पर विभिन्न औद्योगिक गतिविधियों यथा आईटी, फार्मा, फूड प्रॉसेसिंग आदि के क्लस्टर्स के विकास की कार्ययोजना तैयार की जाए। इन क्लस्टर्स के विकास के लिए भूमि की व्यवस्था की जाए।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story